Pages

Saturday, January 11, 2014

ஶிவன் 661 - 700



आदित्य प्रतिमाय  ஆதி³த்ய ப்ரதிமாய 
आदिशक्ति स्वरूपाय  ஆதி³ஶக்தி ஸ்வரூபாய 
आधाराय  ஆதா⁴ராய 
आधारस्थाय  ஆதா⁴ரஸ்தா²ய 
आधिपत्याय  ஆதி⁴பத்யாய 
आनन्दामृताय  ஆனந்தா³ம்ருʼதாய 
आनन्दाय  ஆனந்தா³ய 
आनन्दमयाय  ஆனந்த³மயாய 
आनन्द पूरिताय  ஆனந்த³ பூரிதாய 
आनन्द भैरवाय  ஆனந்த³ பை⁴ரவாய 
आननेनैव विन्यस्त विश्वतत्व समुच्चयाय  ஆனனேனைவ வின்யஸ்த விஶ்வதத்வ ஸமுச்சயாய 
आनन शिरोवेष्टस्रस्ताण्ड कटाहोद्धृताय  ஆனன ஶிரோவேஷ்டஸ்ரஸ்தாண்ட³ கடாஹோத்³த்⁴ருʼதாய 
आनीलच्छाय कन्धराय  ஆனீல ச்சா²ய கந்த⁴ராய 
आनन्द सन्दोहाय  ஆனந்த³ ஸந்தோ³ஹாய 
आनन्द गुणाभिरामाय  ஆனந்த³ கு³ணாபி⁴ராமாய 
आनीलच्छाय कन्धरा सिसीम्ने  ஆனீலச்சா²ய கந்த⁴ரா ஸிஸீம்னே 
आनन्दरस शेवधये  ஆனந்த³ரஸ ஶேவத⁴யே 
आनन्दभूमि वरदाय  ஆனந்த³பூ⁴மி வரதா³ய 
आपाटल जटाय  ஆபாடல ஜடாய 
आपाण्डु विग्रहाय  ஆபாண்டு³ விக்³ரஹாய 
आभरणाय  ஆப⁴ரணாய 
आमोदाय  ஆமோதா³ய 
आम्रपुष्प विभूषिताय  ஆம்ரபுஷ்ப விபூ⁴ஷிதாய 
आम्रपुष्प प्रियप्राणाय  ஆம்ரபுஷ்ப ப்ரியப்ராணாய 
आम्रातकेश्वराय  ஆம்ராதகேஶ்வராய 
आमोदेवते  ஆமோதே³வதே 
आर्जित पाप विनाशकाय  ஆர்ஜித பாப வினாஶகாய 
आर्द्र चर्माम्बरा वृताय  ஆர்த்³ர சர்மாம்ப³ரா வ்ருʼதாய 
आरोहाय  ஆரோஹாய 
आर्द्रचर्मधराय  ஆர்த்³ரசர்மத⁴ராய 
आरण्यकाय  ஆரண்யகாய 
आर्द्राय  ஆர்த்³ராய 
आर्षाय  ஆர்ஷாய 
आर्तिघ्नाय  ஆர்திக்⁴னாய 
आलोकाय  ஆலோகாய 
आलाद्याय  ஆலாத்³யாய 
आवेदनीयाय  ஆவேத³னீயாய 
आवर्तमानेभ्यो  ஆவர்தமானேப்⁴யோ 
आव्याधिनीशाय  ஆவ்யாதி⁴னீஶாய 
आव्याधिने नम: -  ७०० ஆவ்யாதி⁴னே நம: -  700

 
Post a Comment