Pages

Thursday, January 2, 2014

ஶிவன் 341- 380




अपरजाय नमःஅபரஜாய நம​:
अप्रगल्भायஅப்ர க³ல்பா⁴ய
अपराजित विक्रमायஅபராஜித விக்ரமாய
अबुद्धानां प्रतिमास्थायஅபு³த்³தா⁴னாம்ʼ ப்ரதிமாஸ்தா²ய
अभिवाद्यायஅபி⁴வாத்³யாய
अभिगम्यायஅபி⁴க³ம்யாய
अभिरामायஅபி⁴ராமாய
अभयायஅப⁴யாய
अभ्युदीर्णायஅப்⁴யுதீ³ர்ணாய
अभयंकरायஅப⁴யங்கராய
अभीतायஅபீ⁴தாய
अभयप्रदचरित्रायஅப⁴ய ப்ரத³ சரித்ராய
अभूतायஅபூ⁴தாய
अभीष्टप्रदायஅபீ⁴ஷ்ட ப்ரதா³ய
अभयदायஅப⁴யதா³ய
अभिषेक सुन्दरायஅபி⁴ஷேக ஸுந்த³ராய
अभूमयेஅபூ⁴மயே
अभ्रकेशायஅப்⁴ரகேஶாய
अभेद्यायஅபே⁴த்³யாய
अमराधीश्वराय नमः – ३६०அமராதீ⁴ஶ்வராய நம​: – 360
अमृतशिवाय नमःஅம்ருʼத ஶிவாய நம​:
अमरायஅமராய
अमुख्यायஅமுக்²யாய
अमित्रजितेஅமித்ர ஜிதே
अमोघार्थायஅமோகா⁴ர்தா²ய
अमोघायஅமோகா⁴ய
अमृतायஅம்ருʼதாய
अमृतपेஅம்ருʼதபே
अम्रुताशनायஅம்ருதாஶனாய
अम्रुताङ्गायஅம்ருதாங்கா³ய
अमृतवपुषेஅம்ருʼதவபுஷே
अमितायஅமிதாய
अमोघदण्डिनेஅமோக⁴த³ண்டி³னே
अमोघविक्रमायஅமோக⁴விக்ரமாய
अमराधिपायஅமராதி⁴பாய
अमानायஅமானாய
अमरांचितचरणायஅமராஞ்சித சரணாய
अमर्षणायஅமர்ஷணாய
अमेढ्रायஅமேட்⁴ராய
अमदाय नमः – ३८०அமதா³ய நம​: – 380

 
Post a Comment