Pages

Wednesday, January 8, 2014

ஶிவன் - 580 - 620



अक्षरपद प्रदाय  அக்ஷரபத³ ப்ரதா³ய 
अक्षमालाधराय  அக்ஷமாலாத⁴ராய 
अक्षोभ्याय  அக்ஷோப்⁴யாய 
अक्षपाद समर्चिताय नम: - ५८४ அக்ஷபாத³ ஸமர்சிதாய நம: - 584
आकारस्य पितामहो देवता | आकर्षणार्थे विनियोग:  ஆகாரஸ்ய பிதாமஹோ தே³வதா |  ஆகர்ஷணார்தே² வினியோக³: 
आकाश निर्विकाराय नम:  ஆகாஶ நிர்விகாராய நம: 
आकाश रूपाय  ஆகாஶ ரூபாய 
आकाशात्मने  ஆகாஶாத்மனே 
आकाश दिक्स्वरूपाय  ஆகாஶ தி³க் ஸ்வரூபாய 
आगमाय  ஆக³மாய 
आग्नेयाय  ஆக்³னேயாய 
आगमार्थ विचारपराय  ஆக³மார்த² விசாரபராய 
आघ्राणाय  ஆக்⁴ராணாய 
आघूर्णित नयनाय  ஆகூ⁴ர்ணித நயனாய 
आघट्टित  केयूराङ्गदाय  ஆக⁴ட்டித  கேயூராங்க³தா³ய 
आध्युष्टनैज प्रभावाय  ஆத்⁴யுஷ்டனைஜ ப்ரபா⁴வாய 
आचार्याय  ஆசார்யாய 
आचान्त सागराय  ஆசாந்த ஸாக³ராய 
आचारु देहाय  ஆசாரு தே³ஹாய 
आचित नागाय  ஆசித நாகா³ய 
आचूर्णित तम:प्रसराय -  ६०० ஆசூர்ணித தம:ப்ரஸராய -  600
आचूषिताज्ञान गहनाय नमः ஆசூஷிதாஜ்ஞான க³ஹனாய நம​:
आच्छादित क्रुत्तिवसनाय  ஆச்சா²தி³த க்ருத்தி வஸனாய 
आच्छिन्नरिपुमदाय  ஆச்சி²ன்னரிபுமதா³ய 
आच्छेत्रे  ஆச்சே²த்ரே 
आच्छादनीक्रुत ककुभाय  ஆச்சா²த³னீக்ருத ககுபா⁴ய 
आजानुबाहवे  ஆஜானுபா³ஹவே 
आजिस्थाय  ஆஜிஸ்தா²ய 
आज्ञाधराय  ஆஜ்ஞாத⁴ராய 
आत्मत्रयशालिने  ஆத்மத்ரயஶாலினே 
आत्मत्रय संहर्त्रे  ஆத்மத்ரய ஸம்ʼஹர்த்ரே 
आत्मत्रय पालकाय  ஆத்மத்ரய பாலகாய 
आत्म सूक्ष्म विग्यानोदयाय  ஆத்ம ஸூக்ஷ்ம விக்³யானோத³யாய 
आत्माधिपतये  ஆத்மாதி⁴பதயே 
आत्म मन्त्राय  ஆத்ம மந்த்ராய 
आत्मतन्त्राय  ஆத்மதந்த்ராய 
आत्म बोधाय  ஆத்ம போ³தா⁴ய 
आतार्याय  ஆதார்யாய 
आतताविने  ஆததாவினே 
आत्मानन्दाय  ஆத்மானந்தா³ய 
आत्म रूपिणे -६२० ஆத்ம ரூபிணே -620

 
Post a Comment