Pages

Wednesday, January 8, 2014

ஶிவன் 541 -580



असुरेन्द्राणां बन्धकाय  அஸுரேந்த்³ராணாம்ʼ ப³ந்த⁴காய 
 अस्रेहस्रेह रूपाय  அஸ்ரேஹஸ்ரேஹ ரூபாய 
 असुरघ्ने  அஸுரக்⁴னே 
 असद्रुश विग्रहाय  அஸத்³ருஶ விக்³ரஹாய 
 असिमद्भ्यो  அஸிமத்³ப்⁴யோ 
 अस्यद्भ्यो  அஸ்யத்³ப்⁴யோ 
 अस्थिभूषाय  அஸ்தி²பூ⁴ஷாய 
 अस्मत् प्रभवे  அஸ்மத் ப்ரப⁴வே 
 अहश्चराय  அஹஶ்சராய 
 अहोरात्रम निन्दिताय  அஹோராத்ரம நிந்தி³தாய 
अह्ने  அஹ்னே 
 अह: पतये  அஹ: பதயே 
 अहंकाराय  அஹங்காராய 
 अहोरात्रार्ध मासमासानां प्रभवे  அஹோராத்ரார்த⁴ மாஸமாஸானாம்ʼ ப்ரப⁴வே 
 अहिंसाय  அஹிம்ʼஸாய 
 अहंकार लिङ्गाय  அஹங்கார லிங்கா³ய 
 अहन्तात्मने  அஹந்தாத்மனே 
 अहन्याय  அஹன்யாய 
 अहन्यात्मने  அஹன்யாத்மனே 
 अहेतुकाय - ५६० அஹேதுகாய - 560
अहिर् बुध्न्याय  அஹிர் பு³த்⁴ன்யாய 
 अहंकार स्वरूपाय  அஹங்கார ஸ்வரூபாய 
 अहंपदोप लक्ष्यार्थाय  அஹம்பதோ³ப லக்ஷ்யார்தா²ய 
 अहंपद लक्ष्याय  அஹம்பத³ லக்ஷ்யாய 
 अहंपदोप हितार्थाय  அஹம்பதோ³ப ஹிதார்தா²ய 
 अहमर्थ भूताय  அஹமர்த² பூ⁴தாய 
 अहीनोदार कोदण्डाय  அஹீனோதா³ர கோத³ண்டா³ய 
 अहन्त्याय  அஹந்த்யாய 
 अलिकुल भूषणाय  அலிகுல பூ⁴ஷணாய 
 अक्षराय  அக்ஷராய 
अक्षाय  அக்ஷாய 
 अक्षय्याय  அக்ஷய்யாய 
 अक्षय गुणाय  அக்ஷய கு³ணாய 
 अक्षुद्राय  அக்ஷுத்³ராய 
 अक्षोभ्य क्षोभणाय  அக்ஷோப்⁴ய க்ஷோப⁴ணாய 
 अक्षताय  அக்ஷதாய 
 अक्षय रूपिणे  அக்ஷய ரூபிணே 
 अक्षमाला स्वरूपाय அக்ஷமாலா ஸ்வரூபாய
 अक्षयाय  அக்ஷயாய 
 अक्षाक्षर कूटस्थाय परमाय -  ५८० அக்ஷாக்ஷர கூடஸ்தா²ய பரமாய -  580


 
Post a Comment