Pages

Monday, January 6, 2014

ஶிவன் 501- 540

 
अवर्ण गुणाय नम:  அவர்ண கு³ணாய நம: 
 अवस्था रहिताय  அவஸ்தா² ரஹிதாய 
 अवस्थात्रय निर्मुक्ताय  அவஸ்தா²த்ரய நிர்முக்தாய 
 अवन्तिकायां महाकालाय  அவந்திகாயாம்ʼ மஹாகாலாய 
 अविराज निवासिने  அவிராஜ நிவாஸினே 
 अवन्ध्य फलदायिने  அவந்த்⁴ய ப²லதா³யினே 
 अश्वत्थाय  அஶ்வத்தா²ய 
 अश्वा रूढाय  அஶ்வா ரூடா⁴ய 
 अशुभ हराय  அஶுப⁴ ஹராய 
 अश्रोत्रियाय  அஶ்ரோத்ரியாய 
 अशरीराय  அஶரீராய 
 अशेष देवताराध्य पादुकाय  அஶேஷ தே³வதாராத்⁴ய பாது³காய 
 अशेष मुनीशानाय  அஶேஷ முனீஶானாய 
 अशेषलोक निवासिने  அஶேஷலோக நிவாஸினே 
 अशेष पापहराय  அஶேஷ பாபஹராய 
 अशेष जगदाधाराय  அஶேஷ ஜக³தா³தா⁴ராய 
 अशेष धर्म कामार्थ मोक्षदाय  அஶேஷ த⁴ர்ம காமார்த² மோக்ஷதா³ய 
 अश्वेभ्यो  அஶ்வேப்⁴யோ 
 अश्वपतिभ्यो  அஶ்வபதிப்⁴யோ 
 अशोक दु:खाय  அஶோக து³:கா²ய 
 अशोष्याय  அஶோஷ்யாய 
 अशुभ मोचनाय  அஶுப⁴ மோசனாய 
 अष्ट मूर्तये  அஷ்ட மூர்தயே 
 अष्टक्षेत्राष्टरूपाय   அஷ்டக்ஷேத்ராஷ்டரூபாய  
 अष्ट तत्वाय  அஷ்ட தத்வாய 
 अष्टधात्म स्वरूपाय  அஷ்டதா⁴த்ம ஸ்வரூபாய 
 अष्टविधाय  அஷ்டவிதா⁴ய 
 अष्टविंशत्यागम प्रतिपादक पंचवदनाय  அஷ்டவிம்ʼஶத்யாக³ம ப்ரதிபாத³க பஞ்சவத³னாய 
 अष्ट मूर्त्यात्मने  அஷ்ட மூர்த்யாத்மனே 
 अष्ट गुणैश्वर्याय  அஷ்ட கு³ணைஶ்வர்யாய 
अष्टदलोपरिवेष्टित लिङ्गाय  அஷ்டத³லோபரிவேஷ்டித லிங்கா³ய 
 अष्ट दरिद्र विनाशन लिङ्गाय  அஷ்ட த³ரித்³ர வினாஶன லிங்கா³ய 
 अष्ट सिद्धिदायकाय  அஷ்ட ஸித்³தி⁴தா³யகாய 
 अष्टाङ्गाय  அஷ்டாங்கா³ய 
 अषाढाय  அஷாடா⁴ய 
 अस्नेहनाय  அஸ்னேஹனாய 
 असमाम्नायाय  அஸமாம்னாயாய 
 असंस्रुष्टाय  அஸம்ʼஸ்ருஷ்டாய 
 असंख्येयाय  அஸங்க்²யேயாய 
 असुराणां पतये नमः ५४० அஸுராணாம்ʼ பதயே நம​: 540

 
Post a Comment