Pages

Friday, January 10, 2014

ஶிவன் 621- 660



आत्मने  ஆத்மனே 
आत्म संभवाय  ஆத்ம ஸம்ப⁴வாய 
आत्मनि संस्थिताय  ஆத்மனி ஸம்ʼஸ்தி²தாய 
आत्म योनये  ஆத்ம யோனயே 
आत्म ज्योतिषे  ஆத்ம ஜ்யோதிஷே 
आत्मभुवे  ஆத்மபு⁴வே 
आत्रेयाय  ஆத்ரேயாய 
आत्मत्रयोपविष्टाय  ஆத்ம த்ரயோபவிஷ்டாய 
आततायिने  ஆததாயினே 
आतप्याय  ஆதப்யாய 
आत्मा रामाय  ஆத்மா ராமாய 
आत्मजाय  ஆத்மஜாய 
आत्मस्थाय  ஆத்மஸ்தா²ய 
आत्मगाय  ஆத்மகா³ய 
आत्मपश्याय  ஆத்மபஶ்யாய 
आत्मज्ञाय  ஆத்மஜ்ஞாய 
आत्मलिङ्गाय  ஆத்மலிங்கா³ய 
आत्म सम्पद्दान समर्थाय  ஆத்ம ஸம்பத்³தா³ன ஸமர்தா²ய 
आत्मांघ्रि सरोज भाजामदूराय  ஆத்மாங்க்⁴ரி ஸரோஜ பா⁴ஜாமதூ³ராய 
आत्मत्रय निर्मात्रे -  ६४० ஆத்மத்ரய நிர்மாத்ரே -  640
आदिदेहाय  ஆதி³தே³ஹாய 
आदिदेवाय  ஆதி³தே³வாய 
आदये  ஆத³யே 
आदिकराय  ஆதி³கராய 
आदित्याय  ஆதி³த்யாய 
आद्यन्त शून्याय  ஆத்³யந்த ஶூன்யாய 
आदिमध्यान्त शून्याय  ஆதி³மத்⁴யாந்த ஶூன்யாய 
आद्याय  ஆத்³யாய 
आदित्य तपनाधाराय  ஆதி³த்ய தபனா தா⁴ராய 
आदिमद्यान्तरहित देहस्थाय  ஆதி³மத்³யாந்த ரஹித தே³ஹஸ்தா²ய 
आदिमद्यान्तहीन स्वरूपाय  ஆதி³மத்³யாந்த ஹீன ஸ்வரூபாய 
आद्यपाय  ஆத்³யபாய 
आदित्य वर्णाय  ஆதி³த்ய வர்ணாய 
आदिमद्यान्त निर्मुक्ताय  ஆதி³மத்³யாந்த நிர்முக்தாய 
आदित्यानां विष्णवे  ஆதி³த்யானாம்ʼ விஷ்ணவே 
आदिकायाय  ஆதி³காயாய 
आदृताय  ஆத்³ருʼதாய 
आद्यप्रियाय  ஆத்³யப்ரியாய 
आदित्य वक्त्राय  ஆதி³த்ய வக்த்ராய 
आदित्य नयनाय नमः -६६० ஆதி³த்ய நயனாய நம​: -660

 
Post a Comment