Pages

Tuesday, June 3, 2014

ஶிவம் 4641_4680



बिल्ववृक्षसमाश्रयाय नमःபி³ல்வ வ்ருʼக்ஷ ஸமாஶ்ரயாய நம​:
बिल्वायபி³ல்வாய
बिल्मिनेபி³ல்மினே
बिल्वमालाधरायபி³ல்வமாலா த⁴ராய
बैल्वायபை³ல்வாய
बहिर्मुखायப³ஹிர்முகா²ய
बहिर्मुखमहादर्पदमनायப³ஹிர்முக² மஹா த³ர்ப த³மனாய
बहुश्रुतायப³ஹுஶ்ருதாய
बहुप्रदायப³ஹுப்ரதா³ய
बहुमयायப³ஹுமயாய
बहुरूपायப³ஹுரூபாய
बहुभूतायப³ஹுபூ⁴தாய
बहुधरायப³ஹுத⁴ராய
बहुरूपधृतेப³ஹு ரூப த்⁴ருʼதே
बहुरश्मयेப³ஹுரஶ்மயே
बहुप्रसादायப³ஹுப்ரஸாதா³ய
बहुधानिन्दितायப³ஹுதா⁴ நிந்தி³தாய
बहुमालायப³ஹுமாலாய
बहुलायப³ஹுலாய
बहुकर्कशाय नमः – ४६६०ப³ஹுகர்கஶாய நம​: – 4660
बहुरूपिणे नमःப³ஹுரூபிணே நம​:
बहुविध परितोष बाष्पपूरस्फुट पुलकाङ्कित चारु भोग भूमयेப³ஹுவித⁴ பரிதோஷ பா³ஷ்ப பூரஸ்பு²ட புலகாங்கித சாரு போ⁴க³ பூ⁴மயே
बहुनेत्रायப³ஹு நேத்ராய
बाहुभ्यांபா³ஹுப்⁴யாம்ʼ
बृहस्पतयेப்³ருʼஹஸ்பதயே
बृहस्पत्यवमत्याप्तशक्रभीहारिणेப்³ருʼஹஸ்பத்யவ மத்யாப்த ஶக்ர பீ⁴ஹாரிணே
बृहद्गर्भायப்³ருʼஹத்³க³ர்பா⁴ய
बृहज्ज्योतिषेப்³ருʼஹஜ்ஜ்யோதிஷே
बृहतेப்³ருʼஹதே
बृहद्रथायப்³ருʼஹத்³ரதா²ய
बृहत्कीर्तयेப்³ருʼஹத்கீர்தயே
ब्रह्मात्मकपादायப்³ரஹ்மாத்மக பாதா³ய
ब्रह्मात्मकपश्चिमवदनायப்³ரஹ்மாத்மக பஶ்சிம வத³னாய
ब्रह्मरूपिणेப்³ரஹ்மரூபிணே
ब्रह्मचारिणेப்³ரஹ்மசாரிணே
ब्रह्मदारकायப்³ரஹ்ம தா³ரகாய
ब्रह्मात्मनेப்³ரஹ்மாத்மனே
ब्रह्मसदनायப்³ரஹ்மஸத³னாய
ब्रह्माण्डभेदनायப்³ரஹ்மாண்ட³ பே⁴த³னாய
ब्रह्मज्ञानिने नमः ४६८०ப்³ரஹ்மஜ்ஞானினே நம​: 4680

 
Post a Comment