Pages

Monday, June 23, 2014

ஶிவம் - 5121_5160



भूषणाय नमःபூ⁴ஷணாய நம​:
भूषास्थिकुण्डप्रकरपरिवृतायபூ⁴ஷாஸ்தி² குண்ட ³ப்ரகர பரிவ்ருʼதாய
भूषणभूषितायபூ⁴ஷண பூ⁴ஷிதாய
भेषजायபே⁴ஷஜாய
भस्मभूषायப⁴ஸ்மபூ⁴ஷாய
भस्मनिष्ठमहाशैवस्वात्मभूतायப⁴ஸ்ம நிஷ்ட² மஹாஶைவஸ்வாத்ம பூ⁴தாய
भस्मभूषितविग्रहायப⁴ஸ்ம பூ⁴ஷித விக்³ரஹாய
भस्मप्रियायப⁴ஸ்மப்ரியாய
भस्मभासितसर्वाङ्गायப⁴ஸ்ம பா⁴ஸித ஸர்வாங்கா³ய
भस्मसंस्थायப⁴ஸ்ம ஸம்ʼஸ்தா²ய
भस्मशायिनेப⁴ஸ்மஶாயினே
भस्मशुद्धिकरायப⁴ஸ்மஶுத்³தி⁴கராய
भस्मगोप्त्रेப⁴ஸ்ம கோ³ப்த்ரே
भसितश्वेतवराङ्गायப⁴ஸித ஶ்வேதவராங்கா³ய
भस्मभूतायப⁴ஸ்மபூ⁴தாய
भसितलसितायப⁴ஸிதலஸிதாய
भस्मदिग्धकलेवरायப⁴ஸ்மதி³க்³த⁴ கலேவராய
भस्मधारणह्रुष्टायப⁴ஸ்ம தா⁴ரண ஹ்ருஷ்டாய
भस्मकैलासदायப⁴ஸ்ம கைலாஸதா³ய
भस्मलेपकराय नमः – ४१४०ப⁴ஸ்ம லேபகராய நம​: – 4140
भस्मदिग्घशरीराय नमःப⁴ஸ்மதி³க்³க⁴ஶரீராய நம​:
भस्मविभूषिताङ्गायப⁴ஸ்ம விபூ⁴ஷிதாங்கா³ய
भस्मभूषाधरायப⁴ஸ்மபூ⁴ஷாத⁴ராய
भस्मना भूषिताङ्गायப⁴ஸ்மனா பூ⁴ஷிதாங்கா³ய
भस्मरुद्राक्षमालाभिर्मनोहरकलेवरायப⁴ஸ்ம ருத்³ராக்ஷமாலாபி⁴ர் மனோஹர கலேவராய
भस्मगौराङ्गायப⁴ஸ்மகௌ³ராங்கா³ய
भस्मलेपायப⁴ஸ்மலேபாய
भस्मीकृतानङ्गायப⁴ஸ்மீக்ருʼதானங்கா³ய
भसितालेपमण्डितायப⁴ஸிதாலேபமண்டி³தாய
भसितभूषायப⁴ஸிதபூ⁴ஷாய
भस्मोद्धूलितसर्वागायப⁴ஸ்மோத்³தூ⁴லித ஸர்வாகா³ய
भस्मोद्धूलितविग्रहायப⁴ஸ்மோத்³தூ⁴லித விக்³ரஹாய
भस्मासुरप्रियायப⁴ஸ்மாஸுரப்ரியாய
भस्मासत्कायப⁴ஸ்மாஸத்காய
भस्मासुरेष्टदायப⁴ஸ்மாஸுரேஷ்டதா³ய
भस्माङ्गधारिणेப⁴ஸ்மாங்க³தா⁴ரிணே
भस्मशयायப⁴ஸ்மஶயாய
भस्माङ्गरागायப⁴ஸ்மாங்க³ராகா³ய
भासयतेபா⁴ஸயதே
भासुराङ्गाय नमः – ५१६०பா⁴ஸுராங்கா³ய நம​: – 5160

 
Post a Comment