Pages

Saturday, June 7, 2014

ஶிவம் 4761_4800



भक्तकामदुघे नमःப⁴க்தகாம து³கே⁴ நம​:
भक्तप्रार्थितसर्वार्थकामधेनवेப⁴க்தப்ரார்தி²த ஸர்வார்த² காமதே⁴னவே
भक्तकल्पतरवेப⁴க்த கல்ப தரவே
भक्तकृपापरायப⁴க்த க்ருʼபா பராய
भक्तमानसमन्दिरायப⁴க்த மானஸ மந்தி³ராய
भक्तप्रियायப⁴க்த ப்ரியாய
भक्तचितापहारकायப⁴க்த சிதாபஹாரகாய
भक्तवश्यायப⁴க்தவஶ்யாய
भक्तरक्षक वामाक्षिकटाक्षायப⁴க்தரக்ஷக வாமாக்ஷி கடாக்ஷாய
भक्तपोषकायப⁴க்த போஷகாய
भक्तचैतन्यनिलयायப⁴க்தசைதன்ய நிலயாய
भक्तानुग्रहमूर्तयेப⁴க்தானுக்³ரஹ மூர்தயே
भक्तारविन्दहेलयेப⁴க்தாரவிந்த³ ஹேலயே
भक्तानुग्रहविग्रहायப⁴க்தானுக்³ரஹ விக்³ரஹாய
भक्ताभिमतप्रदायப⁴க்தாபி⁴மதப்ரதா³ய
भक्तानुरक्तायப⁴க்தானுரக்தாய
भक्तानामिष्टकामफलप्रदायப⁴க்தானாமிஷ்ட காம ப²லப்ரதா³ய
भक्तानुग्रहकारकायப⁴க்தானுக்³ரஹ காரகாய
भक्तानामभ्य प्रदायப⁴க்தானாமப்⁴ய ப்ரதா³ய
भक्तानुग्रहकारकाय नमः – ४७८०ப⁴க்தானுக்³ரஹகாரகாய நம​: – 4780
भक्तानां भयभञ्जनाय नमःப⁴க்தானாம்ʼ ப⁴யப⁴ஞ்ஜனாய நம​:
भक्तानां सुलभायப⁴க்தானாம்ʼ ஸுலபா⁴ய
भक्तानां भुक्तिमुक्तिप्रदायப⁴க்தானாம்ʼ பு⁴க்திமுக்தி ப்ரதா³ய
भक्तार्तिभञ्जनपरायப⁴க்தார்தி ப⁴ஞ்ஜனபராய
भक्तानां शर्मदायப⁴க்தானாம்ʼ ஶர்மதா³ய
भक्तानुकंपिनेப⁴க்தானுகம்பினே
भक्तानां भीतिभङ्गरतायப⁴க்தானாம்ʼ பீ⁴திப⁴ங்க³ரதாய
भक्तोर्तिभञ्जनायப⁴க்தோர்திப⁴ஞ்ஜனாய
भक्ताभीप्सितदायकायப⁴க்தாபீ⁴ப்ஸித தா³யகாய
भक्तानामिष्टदायिनेப⁴க்தானாமிஷ்டதா³யினே
भक्तानामार्तिनाशायப⁴க்தானாமார்தி நாஶாய
भक्तिदायப⁴க்திதா³ய
भक्तिमुक्तिकारणायப⁴க்திமுக்தி காரணாய
भक्तिमतेப⁴க்திமதே
भक्तिप्रदायப⁴க்திப்ரதா³ய
भक्तिनायकायப⁴க்தி நாயகாய
भक्तिगम्यायப⁴க்திக³ம்யாய
भक्तेष्टदात्रेப⁴க்தேஷ்ட தா³த்ரே
भक्तेच्छोपात्तविग्रहायப⁴க்தேச்சோ²பாத்த விக்³ரஹாய
भक्तिमुक्तिफलप्रदाय नमः – ४८००ப⁴க்திமுக்தி ப²லப்ரதா³ய நம​: – 4800

 
Post a Comment