Pages

Friday, June 27, 2014

ஶிவம் - 5241_5280



मुग्धाय नमःமுக்³தா⁴ய நம​:
मुग्धेन्दुमौलयेமுக்³தே⁴ந்து³மௌலயே
मुग्धेन्दुशेखरायமுக்³தே⁴ந்து³ஶேக²ராய
मुग्धरूपायமுக்³த⁴ரூபாய
मौग्ध्यप्रदात्रेமௌக்³த்⁴யப்ரதா³த்ரே
मौग्ध्यहारकायமௌக்³த்⁴யஹாரகாய
मृगमदसुन्दरायம்ருʼக³மத³ஸுந்த³ராய
मृगप्रियायம்ருʼக³ப்ரியாய
मृगव्याधाधिपतयेம்ருʼக³வ்யாதா⁴தி⁴பதயே
मृगान्कषेखरायம்ருʼகா³ன்கஷேக²ராய
मृगाक्षायம்ருʼகா³க்ஷாய
मृग्यायம்ருʼக்³யாய
मृगाद्युत्पत्तिकारणायம்ருʼகா³த்³யுத்பத்திகாரணாய
मृगेन्द्राणां सिंहायம்ருʼகே³ந்த்³ராணாம்ʼ ஸிம்ʼஹாய
मृगेन्द्राचर्मवसनायம்ருʼகே³ந்த்³ரா சர்ம வஸனாய
मृगेश्वरायம்ருʼகே³ஶ்வராய
मृगान्तकायம்ருʼகா³ந்தகாய
मृगव्याधायம்ருʼக³வ்யாதா⁴ய
मृगेन्द्रवाहनायம்ருʼகே³ந்த்³ரவாஹனாய
मृगबाणार्पणाय नमः ५२६०ம்ருʼக³பா³ணார்பணாய நம​: 5260
मृगयुभ्यो नमःம்ருʼக³யுப்⁴யோ நம​:
मृगटङ्कधरायம்ருʼக³டங்க த⁴ராய
मृगधारिणेம்ருʼக³ தா⁴ரிணே
मृगाद्युत्पत्ति निमित्तायம்ருʼகா³த்³யுத்பத்தி நிமித்தாய
मेघवाहनायமேக⁴வாஹனாய
मेघवाहायமேக⁴வாஹாய
मेघदुन्दुभिनि:स्वनाय மேக⁴து³ந்து³பி⁴னி:ஸ்வனாய
मेघायமேகா⁴ய
मेघाधिपतयेமேகா⁴தி⁴பதயே
मेघ्यायமேக்⁴யாய
मोचकायமோசகாய
मोचाफलप्रीतायமோசாப²ல ப்ரீதாய
मञ्जुलाकृतयेமஞ்ஜுலாக்ருʼதயே
मञ्जुशिञ्जितमञ्जीरचरणायமஞ்ஜுஶிஞ்ஜிதமஞ்ஜீரசரணாய
मञ्जुलाधरविध्वस्तबन्धूकाय மஞ்ஜுலாத⁴ ர வித்⁴வஸ்தப³ந்தூ⁴காய
मञ्जुप्रवालरुचिरपदाब्जायமஞ்ஜுப்ரவால ருசிர பதா³ப்³ஜாய
मञ्जीरपादयुगलायமஞ்ஜீரபாத³ யுக³லாய
मञ्जुशिञ्जानमञ्जीरलसत्पादसरोरुहायமஞ்ஜுஶிஞ்ஜான மஞ்ஜீர லஸத்பாத³ ஸரோருஹாய
मञ्जीरमञ्जलपदायமஞ்ஜீரமஞ்ஜல பதா³ய
मञ्जुमञ्जीरनिनदैराकृष्टाखिलसारसाय नमः – ५२८०மஞ்ஜுமஞ்ஜீரனினதை³ராக்ருʼஷ்டாகி²ல ஸாரஸாய நம​: – 5280

 
Post a Comment