Pages

Monday, June 30, 2014

ஶிவம் - 5321_5360



मन्त्राकाराय नमःமந்த்ராகாராய நம​:
मन्त्रात्मनेமந்த்ராத்மனே
मन्त्रवेद्यायமந்த்ரவேத்³யாய
मन्त्रकृतेமந்த்ரக்ருʼதே
मन्त्रशास्त्रप्रवर्तिनेமந்த்ர ஶாஸ்த்ர ப்ரவர்தினே
मन्त्राधिपतयेமந்த்ராதி⁴பதயே
मन्त्रभूषणायமந்த்ரபூ⁴ஷணாய
मन्त्रनिपुणायமந்த்ர நிபுணாய
मन्त्रज्ञायமந்த்ரஜ்ஞாய
मन्त्रिणेமந்த்ரிணே
मन्त्रेशायமந்த்ரேஶாய
मन्त्रविदाम्वरायமந்த்ரவிதா³ம் வராய
मन्त्रविदां श्रेष्ठायமந்த்ரவிதா³ம்ʼ ஶ்ரேஷ்டா²ய
मन्त्रकोटीशायமந்த்ரகோடீஶாய
मन्त्रनामकप्रणवात्मनेமந்த்ர நாமக ப்ரணவாத்மனே
मन्त्रपतयेமந்த்ரபதயே
मन्त्राणां प्रभवेமந்த்ராணாம்ʼ ப்ரப⁴வே
मन्त्रतन्त्रात्मकायமந்த்ர தந்த்ராத்மகாய
मन्त्रवित्तमायமந்த்ரவித்தமாய
मन्त्रनादप्रियाय नमः – ५३४०மந்த்ர நாத³ப்ரியாய நம​: – 5340
मन्त्रराजस्वरूपिणे नमःமந்த்ர ராஜ ஸ்வரூபிணே நம​:
मन्त्रशक्तिस्वरूपिणे மந்த்ரஶக்தி ஸ்வரூபிணே
मन्त्रकीलकरूपायமந்த்ர கீலக ரூபாய
मन्त्रिपूज्यायமந்த்ரி பூஜ்யாய
मन्त्राणां पतयेமந்த்ராணாம்ʼ பதயே
मन्त्राध्वरुचिरायமந்த்ராத்⁴வ ருசிராய
मन्त्ररक्षिणेமந்த்ரரக்ஷிணே
मत्स्याक्षिसुहृदेமத்ஸ்யாக்ஷி ஸுஹ்ருʼதே³
मतिप्रज्ञासुधाधारिणेமதி ப்ரஜ்ஞாஸுதா⁴ தா⁴ரிணே
मतिप्रियव्याघ्रचर्मवसनायமதிப்ரிய வ்யாக்⁴ர சர்ம வஸனாய
मतिमतेமதிமதே
मत्तद्विरदचर्मधृतेமத்தத்³விரத³ சர்ம த்⁴ருʼதே
मतिप्रसादक्रियादक्षायமதிப்ரஸாத³ க்ரியாத³க்ஷாய
मन्त्रिभिर्मन्त्रितायமந்த்ரிபி⁴ர்மந்த்ரிதாய
मत्तायமத்தாய
मत्तवारणमुख्यचर्मकृतोत्तरीयमनोहरायமத்த வாரண முக்²ய சர்ம க்ருʼதோத்தரீய மனோஹராய
मत्तान्धककरटिङ्कठीरववरायமத்தாந்த⁴க கரடிங்கடீ²ரவ வராய
मत्तमातङ्गसत्कृत्तिवसनायமத்தமாதங்க³ ஸத்க்ருʼத்தி வஸனாய
मातामहायமாதாமஹாய
मातॄणाम् मात्रे नमः - ५३६०மாத்ரூʼணாம்ʼ மாத்ரே நம​: - 5360

 
Post a Comment