Pages

Thursday, June 26, 2014

ஶிவம் - 5201_5240



मुक्तिनाथाय नमःமுக்தி நாதா²ய நம​:
मुक्तायமுக்தாய
मुक्तसक्तायமுக்தஸக்தாய
मुक्तिवैचित्र्यहेतवेமுக்திவைசித்ர்யஹேதவே
मुक्ताहारविभूषनायமுக்தாஹார விபூ⁴ஷனாய
मुक्तादृहासायமுக்தாத்³ருʼஹாஸாய
मुक्ताजीवायமுக்தாஜீவாய
मुक्ताहारचयोपेतायமுக்தாஹாரசயோ பேதாய
मुक्तातपत्रनिर्गलंमौक्तिकधारा संततिनिरन्तरसर्वागायமுக்தத பத்ரநிர்க³லன் மௌக்திக தா⁴ரா ஸந்ததி நிரந்தர ஸர்வாகா³ய
मुक्तेश्वरायமுக்தேஶ்வராய
मूकदानवशासनायமூகதா³னவஶாஸனாய
मूकनाशायமூக நாஶாய
मौक्तिकस्वर्णरुद्राक्षमालिकायமௌக்திக ஸ்வர்ண ருத்³ராக்‌ஷமாலிகாய
मौक्तिकस्रग्विणेமௌக்திக ஸ்ரக்³விணே
मौक्तिकमालिकायமௌக்திக மாலிகாய
मृकण्डुतनयस्तोत्रजातहर्षायம்ருʼகண்டு³ தனய ஸ்தோத்ர ஜாதஹர்ஷாய
मृकण्डुसूनुरक्षणावधूतदण्डपाणयेம்ருʼகண்டு³ஸூனு ரக்ஷணாவதூ⁴த த³ண்ட³ பாணயே
मखभिदेமக²பி⁴தே³
मखघ्नायமக²க்⁴னாய
मखद्वंसिने नमः – ५२२०மக²த்³வம்ʼஸினே நம​: – 5220
मखविनाशकाय नमःமக²விநாஶகாய நம​:
मखान्तकायமகா²ந்தகாய
मखद्वेषिणेமக²த்³வேஷிணே
मखारयेமகா²ரயே
मखपतयेமக²பதயே
मखेशायமகே²ஶாய
मुकनिर्जितपद्मेन्दवेமுக நிர்ஜித பத்³மேந்த³வே
मुखनखधिक्क्रुतचन्द्रायமுக²நக²தி⁴க்க்ருதசந்த்³ராய
मुखबन्धुपूर्णिमासोमायமுக²ப³ந்து⁴பூர்ணிமாஸோமாய
मुखबन्धुपूर्णविधुबिम्बायமுக²ப³ந்து⁴பூர்ணவிது⁴பி³ம்பா³ய
मुख्यप्राणायமுக்²யப்ராணாய
मुख्यायமுக்²யாய
मेखलिनेமேக²லினே
मङ्गलायமங்க³லாய
मङ्गलसुस्वरायமங்க³லஸுஸ்வராய
मङ्गलप्रदायமங்க³லப்ரதா³ய
मङ्गलाधारायமங்க³லாதா⁴ராய
मङ्गलाकरायமங்க³லாகராய
मङ्गल्यायமங்க³ல்யாய
मङ्गलात्मकाय नमः – ५२४०மங்க³லாத்மகாய நம​: – 5240

 
Post a Comment