Pages

Monday, October 6, 2014

ஶிவம் - 8001_8040



व्याळाचलनिवासिने नमःவ்யாளாசல நிவாஸினே நம​:
व्याळाकल्पायவ்யாளாகல்பாய
व्याळादिवाहनजानकायவ்யாளாதி³ வாஹன ஜானகாய
वाक्षरदक्षिणपादायவாக்ஷர த³க்ஷிணபாதா³ய
वृक्षाणां प्रभवेவ்ருʼக்ஷாணாம் ப்ரப⁴வே
वृक्षैरावृतकायायவ்ருʼக்ஷைராவ்ருʼதகாயாய
वृक्षाणां पतयेவ்ருʼக்ஷாணாம்ʼ பதயே
वृक्षेशायவ்ருʼக்ஷேஶாய
वृक्षकेतवेவ்ருʼக்ஷகேதவே
विक्षीणकेभ्यो नमःவிக்ஷீணகேப்⁴யோ நம​:
विक्षराय नमः -८०११விக்ஷராய நம​: -8011
शवर्णस्य शिवो देवता | मोक्षार्थे विनियोगःஶவர்ணஸ்ய ஶிவோ தே³வதா | மோக்ஷார்தே² வினியோக³​:
शकुनिविभुद्वजसन्नुताय नमःஶகுனி விபு⁴ த்³வஜ ஸன்னுதாய நம​:
शक्तायஶக்தாய
शकुन्तवाहनशरायஶகுந்த வாஹன ஶராய
शक्तयेஶக்தயே
शक्ररूपायஶக்ரரூபாய
शक्तिपूज्यायஶக்திபூஜ்யாய
शक्तिबीजात्मकायஶக்திபீ³ஜாத்மகாய
शक्तिदायஶக்திதா³ய
शक्तिमार्गपरायणाय नमः – ८०२०ஶக்தி மார்க³ பராயணாய நம​: – 8020
शक्तित्रयफलदाय नमःஶக்தி த்ரய ப²லதா³ய நம​:
शक्तिनाथायஶக்தி நாதா²ய
शक्तियुजेஶக்தியுஜே
शक्रवृष्टिप्रशमनोन्मुखायஶக்ர வ்ருʼஷ்டி ப்ரஶமனோன் முகா²ய
शक्रामर्षकरायஶக்ராமர்ஷகராய
शक्राभिवन्दितायஶக்ராபி⁴ வந்தி³தாய
शक्तिमतां श्रेष्ठायஶக்திமதாம்ʼ ஶ்ரேஷ்டா²ய
शक्तिमदात्मनेஶக்திமதா³த்மனே
शक्तिधारणायஶக்தி தா⁴ரணாய
शाकल्यायஶாகல்யாய
शाक्यनाथाख्यपाषण्डपूजिताश्मभृतेஶாக்யனாதா²க்²ய பாஷண்ட³ பூஜிதாஶ்ம ப்⁴ருʼதே
शाक्ताश्रमगतायஶாக்தாஶ்ரம க³தாய
शाम्करीकलत्रायஶாம்கரீ கலத்ராய
शांकरीह्रुदयेशायஶாங்கரீ ஹ்ருத³யேஶாய
शिकाररूपायஶிகார ரூபாய
श्रीकरायஶ்ரீகராய
श्रीकेलयेஶ்ரீகேலயே
श्रीकण्ठायஶ்ரீகண்டா²ய
श्रीकराकरायஶ்ரீகராகராய
श्रीकण्ठनाथाय नमः -८०४०ஶ்ரீகண்ட² நாதா²ய நம​: -8040


 
Post a Comment