Pages

Tuesday, October 14, 2014

ஶிவம் - 8241_8280



शब्दस्पर्शस्वरूपाय नमःஶப்³த³ ஸ்பர்ஶ ஸ்வரூபாய நம​:
शब्दगोचरायஶப்³த³கோ³சராய
शब्दस्पर्शरसगन्धसाधकायஶப்³த³ ஸ்பர்ஶ ரஸ க³ந்த⁴ ஸாத⁴காய
शब्दपतयेஶப்³த³பதயே
शब्दातिकायஶப்³தா³திகாய
शब्दब्रह्मप्रतिष्टितायஶப்³த³ ப்³ரஹ்ம ப்ரதிஷ்டிதாய
शब्दातीतायஶப்³தா³தீதாய
शब्दात्मकायஶப்³தா³த்மகாய
शब्दब्रह्मैकपारगायஶப்³த³ ப்³ரஹ்மைக பாரகா³ய
शिबिकास्यादिदायकायஶிபி³காஸ்யாதி³ தா³யகாய
शंबरारिनिकृन्तनायஶம்ப³ராரி நிக்ருʼந்தனாய
शंबरान्तकवैरिणेஶம்ப³ராந்தக வைரிணே
शम्बरायஶம்ப³ராய
श्रीबीजजपसंतुष्टायஶ்ரீபீ³ஜ ஜபஸந்துஷ்டாய
शुभायஶுபா⁴ய
शुभावहायஶுபா⁴வஹாய
शुभप्रदायஶுப⁴ப்ரதா³ய
शुभेक्षणायஶுபே⁴க்ஷணாய
शुभलक्षणायஶுப⁴லக்ஷணாய
शुभाङ्गाय नमः – ८२६०ஶுபா⁴ங்கா³ய நம​: – 8260
शुभानन्दाय नमःஶுபா⁴னந்தா³ய நம​:
शुभाक्षायஶுபா⁴க்ஷாய
शुभवदान्यायஶுப⁴வதா³ன்யாய
शुभाभीष्टप्रदायஶுபா⁴பீ⁴ஷ்ட ப்ரதா³ய
शुभङ्करायஶுப⁴ங்கராய
शुभलक्षणलक्षितायஶுப⁴லக்ஷண லக்ஷிதாய
शुभनांनेஶுப⁴ நாம்ʼனே
शुभसंपदां दात्रेஶுப⁴ஸம்பதா³ம்ʼ தா³த்ரே
शुभरूपायஶுப⁴ரூபாய
शुभ्राननायஶுப்⁴ரானனாய
शुभ्रायஶுப்⁴ராய
शुभ्रविग्रहायஶுப்⁴ர விக்³ரஹாய
शुभ्राभ्रयूथध्रुतेஶுப்⁴ராப்⁴ர யூத²த்⁴ருதே
श्वभ्यो नमःஶ்வப்⁴யோ நம​:
श्रीभरद्वाजदीक्षोत्तमाघोर गुरवेஶ்ரீப⁴ரத்³வாஜ தீ³க்ஷோத்தமாகோ⁴ர கு³ரவே
शीभ्यायஶீப்⁴யாய
शोभनायஶோப⁴னாய
शंभवेஶம்ப⁴வே
शमरूपायஶமரூபாய
शमाय नमः – ८२८०ஶமாய நம​: – 8280

 
Post a Comment