Pages

Tuesday, October 7, 2014

ஶிவம் - 8041_8080




 
श्रीङ्कारसुधाब्धिशीतरुचये नमःஶ்ரீங்கார ஸுதா⁴ப்³தி⁴ ஶீத ருசயே நம​:
श्रीकान्तकान्तनयनार्चितपादपद्मायஶ்ரீகாந்த காந்த நயனார்சித பாத³ பத்³மாய
श्रीकालहस्तिलिङ्गाख्याभरणायஶ்ரீகாலஹஸ்தி லிங்கா³க்²யாப⁴ரணாய
शुक्रायஶுக்ராய
शुक्ररूपायஶுக்ரரூபாய
शुक्रशोचिषेஶுக்ரஶோசிஷே
शुक्रपूज्यायஶுக்ரபூஜ்யாய
शुक्रभोगिनेஶுக்ரபோ⁴கி³னே
शुक्रमदहृतेஶுக்ரமத³ ஹ்ருʼதே
शुक्रभक्षणतत्परायஶுக்ர ப⁴க்ஷண தத்பராய
शुक्लायஶுக்லாய
शुक्लयज्ञोपवीतिनेஶுக்ல யஜ்ஞோபவீதினே
शुक्लवस्त्रपरीधानायஶுக்லவஸ்த்ர பரீதா⁴னாய
शुक्लमाल्याम्बरधरायஶுக்ல மால்யாம்ப³ர த⁴ராய
शुक्लज्योतिषेஶுக்ல ஜ்யோதிஷே
शुक्लभस्मावलिप्तायஶுக்ல ப⁴ஸ்மாவலிப்தாய
शुक्लांबरधरायஶுக்லாம்ப³ர த⁴ராய
शुक्लकर्मरतायஶுக்ல கர்ம ரதாய
शुक्लतनवेஶுக்லதனவே
शूकाराय नमः -८०६०ஶூகாராய நம​: -8060
शूकृताय नमःஶூக்ருʼதாய நம​:
श्लोक्यायஶ்லோக்யாய
श्लोकायஶ்லோகாய
शोकहरायஶோகஹராய
शोकघ्नेஶோகக்⁴னே
शोकनाशनायஶோக நாஶனாய
शंकरायஶங்கராய
शंकानिरोधकायஶங்காநிரோத⁴காய
शंकुकर्णायஶங்குகர்ணாய
शिखावतेஶிகா²வதே
शिखाग्रनिलयायஶிகா²க்³ர நிலயாய
शिखिनेஶிகி²னே
शिखण्डिनेஶிக²ண்டி³னே
शिखिवाहनजन्मभुवेஶிகி²வாஹன ஜன்மபு⁴வே
शिखरिकेतनायஶிக²ரிகேதனாய
शिखरीश्वरायஶிக²ரீஶ்வராய
शिखरीन्द्रधनुःशोभिकरब्जायஶிக²ரீந்த்³ர த⁴னு​:ஶோபி⁴கரப்³ஜாய
शिकण्डिवाहनोदीर्णवात्सल्यायஶிகண்டி³ வாஹனோதீ³ர்ண வாத்ஸல்யாய
शिखरायஶிக²ராய
शिखिसारथये नमः ८०८०ஶிகி²ஸாரத²யே நம​: 8080

 
Post a Comment