Pages

Wednesday, October 29, 2014

ஶிவம் - 8641_8680




साङ्ख्याय नमःஸாங்க்²யாய நம​:
साङ्ख्ययोगायஸாங்க்²ய யோகா³ய
साङ्ख्यानां पुरुषात्मनेஸாங்க்²யானாம்ʼ புருஷாத்மனே
साङ्ख्यस्य प्रभवेஸாங்க்²யஸ்ய ப்ரப⁴வே
सुखकरायஸுக²கராய
सुखप्रदायஸுக²ப்ரதா³ய
सुखदुःखविवर्जितायஸுக²து³​:க² விவர்ஜிதாய
सुखसंस्थायஸுக²ஸம்ʼஸ்தா²ய
सुखनिधयेஸுக²நித⁴யே
सुखप्राप्त्येकहेतवेஸுக²ப்ராப்த்யேக ஹேதவே
सुखभावायஸுக²பா⁴வாய
सुखाधारायஸுகா²தா⁴ராய
सुखासक्तायஸுகா²ஸக்தாய
सुखासनायஸுகா²ஸனாய
सुखाजातायஸுகா²ஜாதாய
सुखासनादिपञ्चमूर्तिप्रतिपादकोर्ध्ववदनायஸுகா²ஸனாதி³ பஞ்ச மூர்தி ப்ரதிபாத³கோர்த்⁴வ வத³னாய
सौख्यस्य प्रभवेஸௌக்²யஸ்ய ப்ரப⁴வே
सौख्यप्रदायஸௌக்²யப்ரதா³ய
सगणायஸக³ணாய
सगरतनूजन्मसुकृतप्लाविजटाय नमः – ८६६०ஸக³ர தனூ ஜன்ம ஸுக்ருʼதப்லாவிஜடாய நம​: – 8660
सगुणनिर्गुणाय नमःஸகு³ண நிர்கு³ணாய நம​:
सगुणायஸகு³ணாய
संग्रहीत्रुभ्योஸங்க்³ரஹீத்ருப்⁴யோ
संग्रहायஸங்க்³ரஹாய
संग्रामविधिपूजितायஸங்க்³ராம விதி⁴ பூஜிதாய
स्वङ्गायஸ்வங்கா³ய
साङ्गवेदतुरङ्गोत्थहेषाक्लुप्तात्मनेஸாங்க³வேத³ துரங்கோ³த்த² ஹேஷாக்லுப்தாத்மனே
सुगुणायஸுகு³ணாய
सुगुणाकरायஸுகு³ணாகராய
सुगंधिदेहायஸுக³ந்தி⁴தே³ஹாய
सुगण्डमण्डलस्फुरत्प्रभाजितामृतांशवेஸுக³ண்ட³ மண்ட³ல ஸ்பு²ரத் ப்ரபா⁴ஜிதாம்ருʼதாம்'ஶவே
सुगतायஸுக³தாய
सुगन्धारायஸுக³ந்தா⁴ராய
सुगतीश्वरायஸுக³தீஶ்வராய
सुगन्धयेஸுக³ந்த⁴யே
सुगुणार्णवायஸுகு³ணார்ணவாய
सुगण्डायஸுக³ண்டா³ய
सुगीतिगायतेஸுகீ³தி கா³யதே
सुग्रीवायஸுக்³ரீவாய
सौगतानां विज्ञानाय नमः – ८६८०ஸௌக³தானாம்ʼ விஜ்ஞானாய நம​: – 8680

 
Post a Comment