Pages

Wednesday, October 1, 2014

ஶிவம் - 7881 -7920



वृषदर्भाय नमःவ்ருʼஷத³ர்பா⁴ய நம​:
वृषशृङ्गायவ்ருʼஷஶ்ருʼங்கா³ய
वृषर्षभायவ்ருʼஷர்ஷபா⁴ய
वृषभोदरायவ்ருʼஷபோ⁴த³ராய
वृषभेक्षणायவ்ருʼஷபே⁴க்ஷணாய
वृषशरायவ்ருʼஷஶராய
वृषभूतायவ்ருʼஷபூ⁴தாய
वृषभाधिरूढायவ்ருʼஷபா⁴தி⁴ரூடா⁴ய
वृषवाहनायவ்ருʼஷவாஹனாய
वृषगमनायவ்ருʼஷக³மனாய
वृषभस्थायவ்ருʼஷப⁴ஸ்தா²ய
वृषाकृतयेவ்ருʼஷாக்ருʼதயே
वृषाकपयेவ்ருʼஷாகபயே
वृषाहिनेவ்ருʼஷாஹினே
वृषोदरायவ்ருʼஷோத³ராய
वृषाधारायவ்ருʼஷாதா⁴ராய
वृषायुधायவ்ருʼஷாயுதா⁴ய
वृषभवाहनायவ்ருʼஷப⁴வாஹனாய
वृषभतुरङ्गायவ்ருʼஷப⁴துரங்கா³ய
वेष्टकप्रणवान्तोदितनादस्याधः पीठमध्योप क्रमादि विलसद्विकारादि नादान्तात्मने नमः – ७९००வேஷ்டக ப்ரணவாந்தோதி³த நாத³ஸ்யாத⁴​: பீட²மத்⁴யோப க்ரமாதி³ விலஸத்³ விகாராதி³ நாதா³ந்தாத்மனே நம​: – 7900
वैष्कर्म्याय नमःவைஷ்கர்ம்யாய நம​:
वसवेவஸவே
वसुमनसेவஸுமனஸே
वसुमतेவஸுமதே
वसुश्रवसेவஸுஶ்ரவஸே
वसुश्वासायவஸுஶ்வாஸாய
वसुरेतसेவஸுரேதஸே
वसुरत्नपरिच्छदायவஸுரத்ன பரிச்ச²தா³ய
वसुप्रियायவஸுப்ரியாய
वसुधास्तुतायவஸுதா⁴ஸ்துதாய
वसुदायவஸுதா³ய
वसुन्धरायவஸுந்த⁴ராய
वसुश्रेष्ठायவஸுஶ்ரேஷ்டா²ய
वसुत्रात्रेவஸுத்ராத்ரே
वसुदेवायவஸுதே³வாய
वसुजन्मविमोचिनेவஸுஜன்ம விமோசினே
वसुप्रदायவஸுப்ரதா³ய
वसुधायासहरणायவஸுதா⁴யாஸ ஹரணாய
वसुन्धरामहाभारसूदनायவஸுந்த⁴ரா மஹாபா⁴ர ஸூத³னாய
वसूनां पावनाय नमः – ७९२०வஸூனாம்ʼ பாவனாய நம​: – 7920

 
Post a Comment