Pages

Friday, October 24, 2014

ஶிவம் - 8561_8600



षोडशस्वरमात्रुकाय नमःஷோட³ஶஸ்வரமாத்ருகாய நம​:
षोडशाब्दवयोयुक्तदिव्याङ्गायஷோட³ஶாப்³த³ வயோயுக்த தி³வ்யாங்கா³ய
षोडशाधारनिलयायஷோட³ஶாதா⁴ர நிலயாய
षोडशात्मस्वरूपायஷோட³ஶாத்ம ஸ்வரூபாய
षोडशाब्दकलावासायஷோட³ஶாப்³த³ கலாவாஸாய
षोडशीकृतवज्राङ्गायஷோட³ஶீ க்ருʼத வஜ்ராங்கா³ய
षोडशेन्दुकालात्मकायஷோட³ஶேந்து³ காலாத்மகாய
षोढान्यासमनायஷோடா⁴ன்யா ஸமனாய
षण्मुखायஷண்முகா²ய
षण्मुखप्रीतायஷண்முக²ப்ரீதாய
षण्मुखजनकायஷண்முக²ஜனகாய
षण्वामपादनूपुरायஷண்வாமபாத³ நூபுராய
षष्टायஷஷ்டாய
षष्टिबालायஷஷ்டிபா³லாய
षष्टिदायஷஷ்டிதா³ய
षष्टिभागायஷஷ்டிபா⁴கா³ய
षष्टिजपपरायणायஷஷ்டிஜபபராயணாய
षष्टिनाथायஷஷ்டி நாதா²ய
षष्टिदोषहराय नमः – ८५७९ஷஷ்டிதோ³ஷஹராய நம​: – 8579
सकारस्य सरस्वती देवता | वाक्सिद्धौ विनियोगः |ஸகாரஸ்ய ஸரஸ்வதீ தே³வதா வாக்ஸித்³தௌ⁴ வினியோக³​:
सकाररूपाय नमःஸகாரரூபாய நம​:
सकलाय नमஸகலாய நம
सकलाधारायஸகலாதா⁴ராய
सकलागमपारगायஸகலாக³ம பாரகா³ய
सकलतत्वात्मकायஸகல தத்வாத்மகாய
सकललोकैककर्त्रेஸகலலோகைக கர்த்ரே
सकललोकैकसंहर्त्रेஸகலலோகைக ஸம்ʼஹர்த்ரே
सकललोकैकगुरवेஸகலலோகைக கு³ரவே
सकललोकैकसाक्षिनेஸகலலோகைக ஸாக்ஷினே
सकलनिगमगुह्यायஸகலநிக³ம கு³ஹ்யாய
सकलदेवान्ततारकायஸகல தே³வாந்த தாரகாய
सकललोकैकशङ्करायஸகலலோகைக ஶங்கராய
सकलनिष्कलायஸகல நிஷ்கலாய
सकलागममस्तकेषु संगोषितात्मविभावायஸகலாக³ம மஸ்தகேஷு ஸங்கோ³ஷிதாத்ம விபா⁴வாய
सकलदुःखमूलहन्त्रेஸகல து³​:க² மூலஹந்த்ரே
सकलाम्नायान्तवेद्यायஸகலாம் நாயாந்தவேத்³யாய
सकलकल्याणदायஸகலகல்யாணதா³ய
सकलाघसंघनिबर्हणायஸகலாக⁴ஸங்க⁴ நிப³ர்ஹணாய
सकलभुवनभूतभावितायஸகல பு⁴வன பூ⁴த பா⁴விதாய
सकलस्थमतयेஸகலஸ்த²மதயே
सकलमौनीज्ञेयाय नमः – ८६००ஸகலமௌனீஜ்ஞேயாய நம​: – 8600

 
Post a Comment