Pages

Monday, October 13, 2014

ஶிவம் - 8201_8240



शुद्धहृदयायஶுத்³த⁴ஹ்ருʼத³யாய
शुद्धस्फटिकनिर्मलायஶுத்³த⁴ஸ்ப²டிக நிர்மலாய
शुद्धान्तरङ्गायஶுத்³தா⁴ந்தரங்கா³ய
शुद्धज्योतिःस्वरूपायஶுத்³த⁴ஜ்யோதி​:ஸ்வரூபாய
शुद्धभावायஶுத்³த⁴பா⁴வாய
शुद्धस्फटिकमालाढ्यायஶுத்³த⁴ஸ்ப²டிகமாலாட்⁴யாய
शुद्धबुद्धयेஶுத்³த⁴பு³த்³த⁴யே
शुद्धबोधप्रबुद्धायஶுத்³த⁴போ³த⁴ப்ரபு³த்³தா⁴ய
शुद्धमार्गप्रवर्तिनेஶுத்³த⁴மார்க³ப்ரவர்தினே
शुद्धस्फटिकसंकाशमूर्तयेஶுத்³த⁴ஸ்ப²டிக ஸங்காஶ மூர்தயே
शुद्धज्ञानिनेஶுத்³த⁴ ஜ்ஞானினே
शुद्धस्फटिकोज्जवलविग्रहायஶுத்³த⁴ ஸ்ப²டிகோஜ்ஜவல விக்³ரஹாய
शुद्धचैतन्यायஶுத்³த⁴சைதன்யாய
शुद्धाध्वजनन्यात्मनेஶுத்³தா⁴த்⁴வ ஜனன்யாத்மனே
शुद्धानन्दायஶுத்³தா⁴னந்தா³ய
शुद्धायஶுத்³தா⁴ய
शनयेஶனயே
शनैश्चरायஶனைஶ்சராய
श्रीनिकेतनायஶ்ரீநிகேதனாய
श्रीनीलकण्ठाय नमः – ८२२०ஶ்ரீநீலகண்டா²ய நம​: – 8220
श्रीनिधये नमः ஶ்ரீநித⁴யே நம​:
श्रीनारदपरिप्रश्नसंशयच्छेदिनेஶ்ரீநாரத³ பரிப்ரஶ்ன ஸம்ʼஶயச்சே²தி³னே
श्रीनारथादिस्वरूपिनेஶ்ரீநாரதா²தி³ ஸ்வரூபினே
श्रीनिवासायஶ்ரீனிவாஸாய
श्रीनाथाधीश्वरायஶ்ரீநாதா²தீ⁴ஶ்வராய
शुनासीरायஶுனாஸீராய
शून्यायஶூன்யாய
श्वपतिभ्योஶ்வபதிப்⁴யோ
शापवर्जितायஶாபவர்ஜிதாய
शापानुग्रहदायஶாபானுக்³ரஹதா³ய
शिपिविष्टायஶிபிவிஷ்டாய
श्रीपपूजितायஶ்ரீபபூஜிதாய
श्रीपतयेஶ்ரீபதயே
श्रीप्रदायஶ்ரீப்ரதா³ய
श्रीपतिवंद्वपादायஶ்ரீபதிவந்த்³வபாதா³ய
श्रीपदायஶ்ரீபதா³ய
श्रीप्रदत्तांबुजस्रग्विनेஶ்ரீப்ரத³த்தாம்பு³ஜ ஸ்ரக்³வினே
शब्दब्रह्मनेஶப்³த³ ப்³ரஹ்மனே
शबरार्भकलालांबुस्तोकसेकजुषेஶப³ரார்ப⁴ கலாலாம்பு³ஸ்தோக ஸேகஜுஷே
शब्दसहाय नमः – ८२४०ஶப்³த³ஸஹாய நம​: – 8240

 
Post a Comment