Pages

Thursday, September 4, 2014

ஶிவம் - 7121_7160



वेदाङ्गायவேதா³ங்கா³ய
वेदविदुषेவேத³விது³ஷே
वेदशास्त्रार्थतत्वज्ञायவேத³ ஶாஸ்த்ரார்த² தத்வஜ்ஞாய
वेदार्थविदेவேதா³ர்த²விதே³
वैद्यायவைத்³யாய
वैदेहीशोकहारिणेவைதே³ஹீ ஶோக ஹாரிணே
वैद्यावैद्यचिकित्सकायவைத்³யாவைத்³ய சிகித்ஸகாய
वैद्यानां वैश्वानरायவைத்³யானாம்ʼ வைஶ்வானராய
वैद्युताशनिमेघगर्जितप्रभवेவைத்³யுதாஶனி மேக⁴ க³ர்ஜித ப்ரப⁴வே
वैदिकायவைதி³காய
वैद्युतप्रभायவைத்³யுதப்ரபா⁴ய
वैदिकोत्तमायவைதி³கோத்தமாய
वैद्यशास्त्रप्रदर्शिनेவைத்³யஶாஸ்த்ரப்ரத³ர்ஶினே
वैदिकाचारनिरतायவைதி³காசாரனிரதாய
वैदिककर्मफलप्रदायவைதி³க கர்ம ப²ல ப்ரதா³ய
वंद्यप्रसादिनेவந்த்³ய ப்ரஸாதி³னே
वन्दिनेவந்தி³னே
वंद्यायவந்த்³யாய
वंद्यपदाब्जायவந்த்³யபதா³ப்³ஜாய
वंदारुजनवत्सलाय नमः– ७१४०வந்தா³ருஜன வத்ஸலாய நம​:– 7140
वन्दारुवृन्दपालनमन्दारपदाय नमःவந்தா³ருவ்ருʼந்த ³பாலன மந்தா³ர பதா³ய நம​:
वन्द्यमानपदन्द्वद्वायவந்த்³யமான பத³ந்த்³வத்³வாய
वन्दारुजनमन्दारायவந்தா³ருஜன மந்தா³ராய
वन्दारुमन्दारायவந்தா³ருமந்தா³ராய
वृद्धायவ்ருʼத்³தா⁴ய
वृद्धात्मनेவ்ருʼத்³தா⁴த்மனே
वृद्धिक्षयविवर्जितायவ்ருʼத்³தி⁴க்ஷய விவர்ஜிதாய
वृद्धिदायकायவ்ருʼத்³தி⁴ தா³யகாய
व्याधयेவ்யாத⁴யே
विधात्रेவிதா⁴த்ரே
विधेयात्मनेவிதே⁴யாத்மனே
विधयेவித⁴யே
विधृतविविधभूषायவித்⁴ருʼதவிவித⁴ பூ⁴ஷாய
विधानज्ञायவிதா⁴னஜ்ஞாய
विध्यद्भ्योவித்⁴யத்³ப்⁴யோ
विधिविदामग्रेसरायவிதி⁴ விதா³மக்³ரே ஸராய
विधातृविष्णुकलहनाशनायவிதா⁴த்ருʼவிஷ்ணு கலஹ நாஶனாய
विधिसारथयेவிதி⁴ஸாரத²யே
विधिसर्गपरिज्ञानप्रदालोकायவிதி⁴ஸர்க³ பரிஜ்ஞான ப்ரதா³லோகாய
विधिस्तुताय नमः – ७१६०விதி⁴ஸ்துதாய நம​: – 7160


Post a Comment