Pages

Thursday, September 18, 2014

ஶிவம் - 7521_7560



विराधाय नमःவிராதா⁴ய நம​:
विरूपायவிரூபாய
विरूपाक्षायவிரூபாக்ஷாய
विराजेவிராஜே
विराट्स्वरूपायவிராட்ஸ்வரூபாய
विराजितायவிராஜிதாய
विरूपधरायவிரூப த⁴ராய
विरूपेभ्योவிரூபேப்⁴யோ
विराड्वृषभवाहनायவிராட்³ வ்ருʼஷப⁴ வாஹனாய
विरागघ्नेவிராக³க்⁴னே
विरुद्धलोचनायவிருத்³த⁴ லோசனாய
विरागिणेவிராகி³ணே
विरागिजनसंस्तुत्यायவிராகி³ஜன ஸம்ʼஸ்துத்யாய
विरोचिनी तीर वासिनेவிரோசினீ தீர வாஸினே
विरोधनिवारकायவிரோத⁴ நிவாரகாய
विरूपापतिगर्वहारिणेவிரூபாபதி க³ர்வஹாரிணே
विरुद्ध वेद सारार्थप्रलापिपवयेவிருத்³த⁴ வேத³ ஸாரார்த² ப்ரலாபிபவயே
विराविलोकवासिनेவிராவிலோக வாஸினே
विराहिजनसंस्तुतायவிராஹி ஜனஸம்ʼஸ்துதாய
विरालीपुरवासिने नमः– ७५४०விராலீபுரவாஸினே நம​:– 7540
वीरेश्वराय नमःவீரேஶ்வராய நம​:
वीरबाहवेவீரபா³ஹவே
वीरभद्रायவீரப⁴த்³ராய
वीरशिखामणयेவீர ஶிகா²மணயே
वीरघ्नेவீரக்⁴னே
वीरदर्पघ्नेவீரத³ர்பக்⁴னே
वीरभृतेவீரப்⁴ருʼதே
वीरचूडामणयेவீரசூடா³மணயே
वीरपुङ्गवायவீரபுங்க³வாய
वीरायவீராய
वीर्यवतेவீர்யவதே
वीररागायவீரராகா³ய
वीर्यवच्छ्रेष्ठायவீர்யவச்ச்²ரேஷ்டா²ய
वीर्यवद्वर्यसंश्रयायவீர்யவத்³வர்ய ஸம்ʼஶ்ரயாய
वीर्याकारायவீர்யாகாராய
वीर्यकरायவீர்யகராய
वीर्यघ्नेவீர்யக்⁴னே
वीरहत्याप्रशमनायவீரஹத்யாப்ரஶமனாய
वीर्यवर्धनायவீர்யவர்த⁴னாய
वीरवन्द्याय नमः – ७५६०வீரவந்த்³யாய நம​: – 7560

 
Post a Comment