Pages

Wednesday, September 10, 2014

ஶிவம் - 7281_7320



विमलाङ्गायவிமலாங்கா³ய
विमलचरितायவிமலசரிதாய
विमलप्रणवाकारमध्यगायவிமல ப்ரணவாகார மத்⁴யகா³ய
विमल विद्यायவிமல வித்³யாய
विमुक्तमार्ग प्रतिबोधनायவிமுக்தமார்க³ ப்ரதிபோ³த⁴னாய
विमलगुणपालिनेவிமலகு³ணபாலினே
विमलेन्द्रविमानदायவிமலேந்த்³ர விமானதா³ய
विमलह्रुदां वाञ्छितार्थगणदात्रेவிமலஹ்ருதா³ம்ʼ வாஞ்சி²தார்த² க³ணதா³த்ரே
विमर्शयவிமர்ஶய
विमर्शरूपिणेவிமர்ஶரூபிணே
विमर्शवाराशयेவிமர்ஶவாராஶயே
विमुक्तायவிமுக்தாய
विमानानां पुष्पकायவிமானானாம்ʼ புஷ்பகாய
विमुक्तात्मनेவிமுக்தாத்மனே
विमुखारीविनाशनायவிமுகா²ரீ வினாஶனாய
विमोचनायவிமோசனாய
विमलयोगीन्द्रहृदयारविन्दसदनायவிமலயோகீ³ந்த்³ர ஹ்ருʼத³யாரவிந்த³ ஸத³னாய
विमलायவிமலாய
विमलागमबाहवेவிமலாக³ம பா³ஹவே
विमलवाणीश्वरीश्वराय नमः– ७३०० விமல வாணீஶ்வரீஶ்வராய நம​:– 7300
विमलोदयाय नमःவிமலோத³யாய நம​:
व्योमकेशायவ்யோமகேஶாய
व्योमगायவ்யோமகா³ய
व्योमाकारायவ்யோமாகாராய
व्योममण्डलसंस्थितायவ்யோமமண்ட³ல ஸம்ʼஸ்தி²தாய
व्योमातीतायவ்யோமாதீதாய
व्योमरूपिणेவ்யோமரூபிணே
व्योमाकारायவ்யோமாகாராய
व्योमचीराम्बरायவ்யோமசீராம்ப³ராய
व्योमगङ्गाविनोदिनेவ்யோம க³ங்கா³ வினோதி³னே
व्योमलिङ्गायவ்யோமலிங்கா³ய
व्योमबिन्दुसमाश्र्नितायவ்யோமபி³ந்து³ ஸமாஶ்ர்னிதாய
व्योमरूपायவ்யோமரூபாய
व्योममूर्तयेவ்யோமமூர்தயே
व्योमाधिपतयेவ்யோமாதி⁴பதயே
व्योमसंस्थायவ்யோம ஸம்ʼஸ்தா²ய
व्योमगङ्गाजलस्रातसिन्द्धसंघसमर्चितायவ்யோம க³ங்கா³ஜலஸ்ராத ஸிந்த்³த⁴ ஸங்க⁴ ஸமர்சிதாய
वयसा पञ्चविंशतिवार्षिकायவயஸா பஞ்சவிம்ʼஶதி வார்ஷிகாய
वयस्यपरिमण्डितायவயஸ்யபரி மண்டி³தாய
वयोवस्थाविवर्जिताय नमः– ७३२०வயோவஸ்தா² விவர்ஜிதாய நம​:– 7320


Post a Comment