Pages

Monday, September 15, 2014

ஶிவம் - 7401_7440



वराङ्गनापूजिताय नमःவராங்க³னாபூஜிதாய நம​:
वरदानतीर्थरूपिणेவரதா³ன தீர்த²ரூபிணே
वर्तनी प्रदर्शिनेவர்தனீ ப்ரத³ர்ஶினே
वर्धमानप्रियायவர்த⁴மானப்ரியாய
वर्धमानायவர்த⁴மானாய
वर्यायவர்யாய
वर्ष्मिणेவர்ஷ்மிணே
वर्मिणेவர்மிணே
वर्णकारकायவர்ணகாரகாய
वरासिधारिणेவராஸி தா⁴ரிணே
वराङ्गायவராங்கா³ய
वर्षधर्षायவர்ஷத⁴ர்ஷாய
वरालिवतंसायவராலிவதம்ʼஸாய
वर्षाद्यागमकारणायவர்ஷாத்³யாக³ம காரணாய
वर्षकरायவர்ஷகராய
वर्षवरायவர்ஷவராய
वर्षधरायவர்ஷத⁴ராய
वर्षाणां प्रभवेவர்ஷாணாம்ʼ ப்ரப⁴வே
वराहायவராஹாய
वर्तमानाय नमः– ७४२०வர்தமானாய நம​:– 7420
वर्षते नमःவர்ஷதே நம​:
वरूथपुथुदण्डिनेவரூத²புது² த³ண்டி³னே
वरदाभयपाणयेவரதா³ப⁴ய பாணயே
वरदाभयहस्तायவரதா³ப⁴ய ஹஸ்தாய
वर्षदायकायவர்ஷதா³யகாய
वरमार्गप्रबोधिनेவரமார்க³ ப்ரபோ³தி⁴னே
वर्णाश्रमरतायவர்ணாஶ்ரம ரதாய
वर्णाश्रमगुरवेவர்ணாஶ்ரம கு³ரவே
वर्मधारिणेவர்மதா⁴ரிணே
वर्षनायकायவர்ஷ நாயகாய
वरुणैश्वर्यखण्डनायவருணைஶ்வர்ய க²ண்ட³னாய
वरचन्दनानुलिप्तायவரசந்த³னானுலிப்தாய
वरवर्णिनीप्रियायவரவர்ணினீ ப்ரியாய
वरार्थपङ्काभिषेकप्रियायவரார்த²பங்காபி⁴ஷேகப்ரியாய
वर्णभूषणायவர்ணபூ⁴ஷணாய
वर्णश्रेष्टायவர்ணஶ்ரேஷ்டாய
वर्णाध्वत्वचेவர்ணாத்⁴வத்வசே
वर्णबाह्यायவர்ணபா³ஹ்யாய
वर्णात्मनेவர்ணாத்மனே
वर्णाश्रमकराय नमः -७४४०வர்ணாஶ்ரம கராய நம​: -7440

 
Post a Comment