Pages

Wednesday, September 24, 2014

ஶிவம் - 7641_7680




विलग्नमूर्तये नमःவிலக்³னமூர்தயே நம​:
विलंबितविदग्धायவிலம்பி³த வித³க்³தா⁴ய
विलोकितकलितेन्द्रादिपदायவிலோகித கலிதேந்த்³ராதி³ பதா³ய
विलोचनवलनमात्रकलितजगत्स्रुष्टद्यादिकायவிலோசன வலன மாத்ர கலித ஜக³த்ஸ்ருஷ்டத்³யாதி³காய
विलसभ्दालनेत्रायவிலஸப்⁴தா³ல நேத்ராய
विलेपनप्रियायவிலேபன ப்ரியாய
विलासिनीविभ्रमगेहायவிலாஸினீ விப்⁴ர மகே³ஹாய
विलोलवामाङ्गपार्श्ववीक्षितायவிலோல வாமாங்க³ பார்ஶ்வ வீக்ஷிதாய
विलेपिनीभूषिततनवेவிலேபினீ பூ⁴ஷித தனவே
विलोचनत्रयीविराजमानायவிலோசன த்ரயீ விராஜமானாய
विलापबहुदूरायவிலாப ப³ஹு தூ³ராய
वेलाविभ्रमशालिनेவேலா விப்⁴ரமஶாலினே
वेल्लिताकृष्टजनतायவேல்லிதா க்ருʼஷ்ட ஜனதாய
वेल्लजकुसुमावतंसायவேல்லஜகுஸுமாவதம்ʼஸாய
वावदूकायவாவதூ³காய
व्यावृत्तायவ்யாவ்ருʼத்தாய
व्यावृत्तपिङ्गेक्षणायவ்யாவ்ருʼத்தபிங்கே³க்ஷணாய
व्यावहारिकायவ்யாவஹாரிகாய
व्यावहारिकप्रियायவ்யாவஹாரிக ப்ரியாய
व्यवसायाय नमः – ७६६०வ்யவஸாயாய நம​: – 7660
व्यवस्थानाय नमःவ்யவஸ்தா²னாய நம​:
व्यवस्थापकायவ்யவஸ்தா²பகாய
व्यवच्छेदमार्गाभिज्ञायவ்யவச்சே²த³மார்கா³பி⁴ஜ்ஞாய
विवर्तनायவிவர்தனாய
विवस्वतेவிவஸ்வதே
विवेकाख्यायவிவேகாக்²யாய
विवर्णदक्षायவிவர்ணத³க்ஷாய
विविक्तस्थायவிவிக்தஸ்தா²ய
विविध्यन्तीभ्योவிவித்⁴யந்தீப்⁴யோ
विविधाकरायவிவிதா⁴கராய
विव्याधिनेவிவ்யாதி⁴னே
विवेकिनेவிவேகினே
विवेकिविबुधानन्दायவிவேகிவிபு³தா⁴னந்தா³ய
विवाहायவிவாஹாய
विवादवरदायவிவாத³வரதா³ய
विवृतिकरायவிவ்ருʼதிகராய
विवर्तकलितजगत्प्रियायவிவர்தகலித ஜக³த் ப்ரியாய
विवृतोक्तिपटिष्ठायவிவ்ருʼதோக்திபடிஷ்டா²ய
विवृत्तात्मनेவிவ்ருʼத்தாத்மனே
विविक्ताकाराय नमः – ७६८०விவிக்தாகாராய நம​: – 7680

 
Post a Comment