Pages

Thursday, September 25, 2014

ஶிவம் - 7681_7720



विवादिनेவிவாதி³னே
विवादहरायவிவாத³ஹராய
विवादिसंप्रदायज्ञायவிவாதி³ ஸம்ப்ரதா³யஜ்ஞாய
वैवस्वतायவைவஸ்வதாய
वैवस्वतस्य शास्त्रेவைவஸ்வதஸ்ய ஶாஸ்த்ரே
वशीकृतजगत्पतयेவஶீக்ருʼத ஜக³த் பதயே
वश्यश्रियेவஶ்யஶ்ரியே
वंशकरायவம்ʼஶகராய
वशंकरायவஶங்கராய
वंशवर्धनायவம்ʼஶ வர்த⁴னாய
वंशनाथायவம்ʼஶ நாதா²ய
वंशायவம்ʼஶாய
वश्यायவஶ்யாய
विशादाकृतयेவிஶாதா³ க்ருʼதயே
वशिनेவஶினே
वशकृतेவஶக்ருʼதே
विशदविज्ञानायவிஶத³விஜ்ஞானாய
विशदस्फटिकदिव्यविग्रहायவிஶத³ ஸ்ப²டிக தி³வ்ய விக்³ரஹாய
विश्वभर्त्रेவிஶ்வப⁴ர்த்ரே
विश्वाधिकाय नमः – ७७००விஶ்வாதி⁴காய நம​: – 7700
विश्वरेतसेவிஶ்வரேதஸே
विश्वरूपायவிஶ்வரூபாய
विश्ववन्द्यायவிஶ்வவந்த்³யாய
विश्वदीप्तयेவிஶ்வதீ³ப்தயே
विश्वोपत्तिकरायவிஶ்வோபத்திகராய
विश्वकर्मिणेவிஶ்வகர்மிணே
विश्वतैजसरूपायவிஶ்வ தைஜஸ ரூபாய
विश्वदेहायவிஶ்வதே³ஹாய
विश्वेश्वरेश्वरायவிஶ்வேஶ்வரேஶ்வராய
विश्वहन्त्रेவிஶ்வஹந்த்ரே
विश्वभावनायவிஶ்வபா⁴வனாய
विश्वसहायவிஶ்வஸஹாய
विश्वराजेவிஶ்வராஜே
विश्वदक्षिणाय விஶ்வத³க்ஷிணாய
विश्वस्मैவிஶ்வஸ்மை
विश्वज्ञानमहोदधयेவிஶ்வஜ்ஞானமஹோத³த⁴யே
विश्वगोप्त्रेவிஶ்வகோ³ப்த்ரே
विश्वमङ्गलायவிஶ்வமங்க³லாய
विश्वनेत्रेவிஶ்வநேத்ரே
विश्वकेतवे नमः – ७७२०விஶ்வகேதவே நம​: – 7720

 
Post a Comment