Pages

Tuesday, September 30, 2014

ஶிவம் - 7841_7880



विषाहारिणे नमःவிஷாஹாரிணே நம​:
विषहर्यादि चतुर्मूर्ति प्रतिपादक पश्चिमवदनायவிஷஹர்யாதி³ சதுர்மூர்தி ப்ரதிபாத³க பஶ்சிம வத³னாய
विषभञ्जनायவிஷ ப⁴ஞ்ஜனாய
विषघ्नायவிஷக்⁴னாய
विषमायவிஷமாய
विषधरायவிஷத⁴ராய
विशमदृष्टयेவிஶமத்³ருʼஷ்டயே
विषहारिणेவிஷஹாரிணே
विषण्णाङ्गायவிஷண்ணாங்கா³ய
विषमेक्षणायவிஷமேக்ஷணாய
विषमनेत्रायவிஷமநேத்ராய
विषरोगादिभञ्जनायவிஷரோகா³தி³ப⁴ஞ்ஜனாய
विषयार्णवमग्नानां समुद्धरणहेतवेவிஷயார்ணவமக்³னானாம்ʼ ஸமுத்³த⁴ரண ஹேதவே
विष्टंभायவிஷ்டம்பா⁴ய
विषभक्षणतत्परायவிஷப⁴க்ஷண தத்பராய
विष्वक्सेनायவிஷ்வக்ஸேனாய
विष्वक्सेनकृतस्तोत्रायவிஷ்வக்ஸேன க்ருʼத ஸ்தோத்ராய
विष्टरश्रवसेவிஷ்டரஶ்ரவஸே
विष्फारायவிஷ்பா²ராய
वृषेन्द्राय नमः – ७८६०வ்ருʼஷேந்த்³ராய நம​: – 7860
वृषभेश्वराय नमःவ்ருʼஷபே⁴ஶ்வராய நம​:
वृषध्वजायவ்ருʼஷ த்⁴வஜாய
वृषात्मनेவ்ருʼஷாத்மனே
वृषभाधीशायவ்ருʼஷபா⁴தீ⁴ஶாய
वृषारूढायவ்ருʼஷாரூடா⁴ய
वृषणायவ்ருʼஷணாய
वृषपर्वणेவ்ருʼஷபர்வணே
वृषरूपायவ்ருʼஷரூபாய
वृषवर्धनायவ்ருʼஷ வர்த⁴னாய
वृषाङ्कायவ்ருʼஷாங்காய
वृषदश्वायவ்ருʼஷத³ஶ்வாய
वृषज्ञेयायவ்ருʼஷஜ்ஞேயாய
वृषभायவ்ருʼஷபா⁴ய
वृषकर्मणेவ்ருʼஷகர்மணே
वृषनिधयेவ்ருʼஷநித⁴யே
वृषप्रवर्तकायவ்ருʼஷப்ரவர்தகாய
वृषस्थापकायவ்ருʼஷ ஸ்தா²பகாய
वृषभाक्षायவ்ருʼஷபா⁴க்ஷாய
वृषप्रियायவ்ருʼஷப்ரியாய
वृषनाभाय नमः -७८८०வ்ருʼஷநாபா⁴ய நம​: -7880

 
Post a Comment