Pages

Friday, September 5, 2014

ஶிவம் - 7161_7200




विधुबिम्बाय नमःவிது⁴பி³ம்பா³ய நம​:
विन्ध्याचलनिवासिनेவிந்த்⁴யாசல நிவாஸினே
विन्ध्यमर्दनायவிந்த்⁴ய மர்த³னாய
वेधसेவேத⁴ஸே
वेधित्रेவேதி⁴த்ரே
वनवासिनेவனவாஸினே
वनस्पतीनां प्रभवेவனஸ்பதீனாம்ʼ ப்ரப⁴வே
वनमालादिविभूषणायவனமாலாதி³ விபூ⁴ஷணாய
वनप्रियायவனப்ரியாய
वनितार्धाङ्गायவனிதார்தா⁴ங்கா³ய
वनदुर्गापतयेவனது³ர்கா³ பதயே
वनानां पतयेவனானாம்ʼ பதயே
वनचरायவனசராய
वन्यावनिविनोदिनेவன்யாவனி வினோதி³னே
वन्यायவன்யாய
वजाक्षायவஜாக்ஷாய
वनालयायவனாலயாய
वन्याशनप्रियायவன்யாஶனப்ரியாய
वानप्रस्थायவானப்ரஸ்தா²ய
वानप्रस्थाश्रमस्थाय नमः – ७१८०வானப்ரஸ்தா²ஶ்ரம ஸ்தா²ய நம​: – 7180
वानप्रस्थाश्रमिणे नमःவானப்ரஸ்தா²ஶ்ரமிணே நம​:
व्यानेश्वरायவ்யானேஶ்வராய
विनुतात्मनेவினுதாத்மனே
विनायकनमस्कृतायவினாயக நமஸ்க்ருʼதாய
विनायकायவினாயகாய
विनायकविनोदस्थायவினாயக வினோத³ஸ்தா²ய
विनष्टदोषायவினஷ்டதோ³ஷாய
विनतायவினதாய
विनयित्रेவினயித்ரே
विनीतात्मनेவினீதாத்மனே
विनमद्रक्षणकर्मणेவினமத்³ ரக்ஷண கர்மணே
वपुषेவபுஷே
वपाहोमप्रियायவபா ஹோம ப்ரியாய
व्याप्तयेவ்யாப்தயே
व्याप्तायவ்யாப்தாய
व्याप्यायவ்யாப்யாய
व्यापकायவ்யாபகாய
व्यापाण्डुगण्डस्थलायவ்யாபாண்டு³ க³ண்ட³ ஸ்த²லாய
विप्रपूजनसंतुष्टायவிப்ரபூஜன ஸந்துஷ்டாய
विप्राविप्रप्रवर्धनाय नमः – ७२००விப்ராவிப்ர ப்ரவர்த⁴னாய நம​: – 7200



 

Download
 
Post a Comment