Pages

Saturday, August 2, 2014

ஶிவம் - 6121_6160



याज्ञिकाय नमःயாஜ்ஞிகாய நம​:
यतयेயதயே
यतिवेद्यायயதிவேத்³யாய
यतिनेயதினே
यतीनां मुक्तयेயதீனாம்ʼ முக்தயே
यतिप्रियायயதிப்ரியாய
यतिवर्यायயதிவர்யாய
यतिमानसाम्बुजनिशान्तायயதிமானஸாம்பு³ஜனி ஶாந்தாய
यतिधर्मपरायणायயதி த⁴ர்ம பராயணாய
यतिसाध्यायயதிஸாத்⁴யாய
यत्नसाध्यायயத்னஸாத்⁴யாய
यत्रसर्वं यतस्सर्वं यच्चसर्वंயத்ரஸர்வம்ʼ யதஸ்ஸர்வம்ʼ யச்சஸர்வம்ʼ
यतेन्द्रियायயதேந்த்³ரியாய
यतोवाचोयजुर्ज्ञेयविषयज्ञायயதோவாசோ யஜுர்ஜ்ஞேயவிஷயஜ்ஞாய
यत्नरक्षितपुत्रस्त्रीपितृमात्रेயத்ன ரக்ஷித புத்ரஸ்த்ரீபித்ருʼமாத்ரே
यत्नायயத்னாய
यन्त्रेயந்த்ரே
यन्त्रनामकलिङ्गात्मनेயந்த்ரனாமகலிங்கா³த்மனே
यन्त्ररूपप्रपञ्चैकसूत्रायயந்த்ர ரூப ப்ரபஞ்சைக ஸூத்ராய
यन्त्रात्मने नमः – ६१४०யந்த்ராத்மனே நம​: – 6140
यन्त्राणाम् धनुषे नमःயந்த்ராணாம் த⁴னுஷே நம​:
यन्त्रेशायயந்த்ரேஶாய
यन्त्राराधनतत्परायயந்த்ராராத⁴ன தத்பராய
यन्त्रसाधकायயந்த்ர ஸாத⁴காய
यन्त्रमयायயந்த்ரமயாய
यन्त्रासनायயந்த்ராஸனாய
यन्त्रमन्त्रस्वरूपकायயந்த்ரமந்த்ர ஸ்வரூபகாய
यातायातादिरहितायயாதாயாதாதி³ ரஹிதாய
यात्राफलप्रदायயாத்ரா ப²ல ப்ரதா³ய
यात्राप्रियायயாத்ராப்ரியாய
यातुधानवरप्रदायயாதுதா⁴னவரப்ரதா³ய
यथार्थरूपायயதா²ர்த²ரூபாய
यथार्थायயதா²ர்தா²ய
यथारुचिजगद्ध्येयविग्रहायயதா² ருசி ஜக³த்³ த்⁴யேய விக்³ரஹாய
यथार्थपरमेश्वरायயதா²ர்த²பரமேஶ்வராய
यथेष्टफलदायயதே²ஷ்டப²லதா³ய
यथोक्तफलदायயதோ²க்தப²லதா³ய
यथेच्छं विषयासक्तदुष्प्रापायயதே²ச்ச²ம்ʼ விஷயாஸக்த து³ஷ்ப்ராபாய
यथेष्टफलदायकायயதே²ஷ்ட ப²லதா³யகாய
यदुपतये नमः – ६१६०யது³பதயே நம​: – 6160

 
Post a Comment