Pages

Thursday, August 28, 2014

ஶிவம் - 6921_6960



विजयाय नमःவிஜயாய நம​:
विजयिनेவிஜயினே
विजयकालविदेவிஜயகாலவிதே³
विजयस्थिरायவிஜய ஸ்தி²ராய
विजयद्विजविज्ञानदेशिकायவிஜய த்³விஜ விஜ்ஞான தே³ஶிகாய
वटवेவடவே
वटुवेषायவடுவேஷாய
वटतरुमूलनिवासायவடதருமூல நிவாஸாய
वटमूलनिवासायவடமூல நிவாஸாய
वटमूलकृताश्रयायவடமூலக்ருʼதாஶ்ரயாய
वटुत्रयस्वरूपायவடுத்ரய ஸ்வரூபாய
वटदुमस्थायவடது³மஸ்தா²ய
वटरूपायவடரூபாய
व्यूढोरस्कायவ்யூடோ⁴ரஸ்காய
वणिजायவணிஜாய
वोढ्रेशायவோட்⁴ரேஶாய
वाणिजायவாணிஜாய
वाणीगीतयशसेவாணீகீ³த யஶஸே
वाणीप्रियायவாணீப்ரியாய
वाणीशवन्द्याय नमः – ६९४०வாணீஶ வந்த்³யாய நம​: – 6940
वानीशैकज्ञेयमूर्धमाहात्म्यायவானீஶைக ஜ்ஞேய மூர்த⁴ மாஹாத்ம்யாய
वीणानादप्रमोदितायவீணா நாத³ ப்ரமோதி³தாய
वीणाढ्यायவீணாட்⁴யாய
वीणाकर्णनतत्परायவீணாகர்ணனதத்பராய
वीणानादरतायவீணாநாத³ரதாய
वीणाव्याख्याक्षसूत्रभृतेவீணா வ்யாக்²யாக்ஷ ஸூத்ர ப்⁴ருʼதே
वीणाधारिणेவீணா தா⁴ரிணே
वीणापुस्तकहस्ताब्जायவீணா புஸ்தக ஹஸ்தாப்³ஜாய
वेणुतत्परायவேணுதத்பராய
वैणिकायவைணிகாய
वैणविकायவைணவிகாய
व्रताधिपतयेவ்ரதாதி⁴பதயே
व्रतिनेவ்ரதினே
व्रतविदुषेவ்ரதவிது³ஷே
व्रतेश्वरायவ்ரதேஶ்வராய
व्रताधारायவ்ரதா தா⁴ராய
व्रताकरायவ்ரதாகராய
व्रतकृच्छ्रेष्ठाय வ்ரத க்ருʼச்ச்²ரேஷ்டா²ய
व्रतकृतेவ்ரதக்ருʼதே
व्रतशीलाय नमः - ६९६०வ்ரதஶீலாய நம​: - 6960

 
Post a Comment