Pages

Wednesday, August 20, 2014

ஶிவம் - 6681_6720



लब्धसिद्धाय नमःலப்³த⁴ஸித்³தா⁴ய நம​:
लब्धायலப்³தா⁴ய
लाभप्रवर्तकायலாப⁴ப்ரவர்தகாய
लाभात्मनेலாபா⁴த்மனே
लाभकृतेலாப⁴க்ருʼதே
लाभदायலாப⁴தா³ய
लोभिनेலோபி⁴னே
लड्डुकप्रियायலட்³டு³க ப்ரியாய
लयायலயாய
लयकरायலயகராய
लयवर्जितायலயவர்ஜிதாய
ललितायலலிதாய
ललिताललिताश्रयायலலிதாலலிதாஶ்ரயாய
ललितानाथायலலிதாநாதா²ய
ललितमूर्तयेலலிதமூர்தயே
ललितागमकपोलायலலிதாக³மகபோலாய
ललाटाक्षायலலாடாக்ஷாய
ललाटचक्षुरुज्ज्वलद्धनञ्जयस्फुलिङ्गयोनिपीतपञ्चसायकायலலாட சக்ஷுருஜ்ஜ்வலத்³ த⁴னஞ்ஜய ஸ்பு²லிங்க ³யோனிபீத பஞ்சஸாயகாய
ललाटनेत्रानलदह्यमानमारायலலாட நேத்ரானல த³ஹ்யமானமாராய
ललाटचन्द्रसंनिभाय नमः – ६७००லலாடசந்த்³ரஸம்ʼனிபா⁴ய நம​: – 6700
लांलीं नमःலாம்ʼலீம்ʼ நம​:
लीलावित्कंपिवपुषेலீலாவித்கம்பி வபுஷே
लीलया विश्वसंहार सृष्टि स्थितिविधायकायலீலயா விஶ்வ ஸம்ʼஹார ஸ்ருʼஷ்டி ஸ்தி²தி விதா⁴யகாய
लीलाविग्रहायலீலாவிக்³ரஹாய
लीलानां प्रभवेலீலாநாம்ʼ ப்ரப⁴வே
लीलावैचित्र्यकोविदायலீலா வைசித்ர்யகோவிதா³ய
लेलिहानायலேலிஹானாய
लोलाक्षिनायकायலோலாக்ஷிநாயகாய
लोलायலோலாய
लंलकुलीशायலம்ʼலகுலீஶாய
लवायலவாய
लवणायலவணாய
लवरेफहलाङ्गायலவரேப²ஹலாங்கா³ய
लावण्यराशयेலாவண்யராஶயே
लावण्यजलधयेலாவண்யஜலத⁴யே
लावण्याब्धिसमुद्भूतपूर्णेन्दु प्रतिमाननायலாவண்யாப்³தி⁴ ஸமுத்³பூ⁴த பூர்ணேந்து³ ப்ரதிமானனாய
लवणाकरायலவணாகராய
लवणाकरपूजितायலவணாகரபூஜிதாய
लवणारिसमर्चितायலவணாரிஸமர்சிதாய
लवित्रपाणये नमः – ६७२०லவித்ரபாணயே நம​: – 6720

 
Post a Comment