Pages

Tuesday, August 12, 2014

ஶிவம் - 6441_6480



रत्नाम्बरधराय नमःரத்னாம்ப³ர த⁴ராய நம​:
रत्नासागरमध्यस्थायரத்னாஸாக³ர மத்⁴யஸ்தா²ய
रत्नद्वीपनिवासिनेரத்ன த்³வீப நிவாஸினே
रत्नप्राकारमध्यस्तायரத்ன ப்ராகார மத்⁴யஸ்தாய
रत्नाङ्गायரத்னாங்கா³ய
रत्नदायिनेரத்னதா³யினே
रात्रिम्चरायராத்ரிஞ்சராய
रात्रिंचरप्राणापहारकायராத்ரிஞ்சர ப்ராணாபஹாரகாய
रात्रिंचरगणाध्यक्षायராத்ரிஞ்சர க³ணாத்⁴யக்ஷாய
रात्रिंचरनिषेवितायராத்ரிஞ்சர நிஷேவிதாய
रथयोगिनेரத²யோகி³னே
रथकरायரத²கராய
रथपतयेரத²பதயே
रथकारेभ्योரத²காரேப்⁴யோ
रथायரதா²ய
रथारूढायரதா²ரூடா⁴ய
रथ्यायரத்²யாய
रथांगपाणयेரதா²ங்க³பாணயே
रथिनेரதி²னே
रथपतिभ्यो नमः -६४६०ரத²பதிப்⁴யோ நம​: -6460
रथिभ्यो नमःரதி²ப்⁴யோ நம​:
रथोत्सवायரதோ²த்ஸவாய
रथोत्सवप्रियायரதோ²த்ஸவப்ரியாய
रथेभ्योரதே²ப்⁴யோ
रुद्रायருத்³ராய
रुद्ररूपायருத்³ரரூபாய
रुद्रमन्यवेருத்³ரமன்யவே
रुदयेருத³யே
रुद्रनीलायருத்³ர நீலாய
रुद्रभावायருத்³ரபா⁴வாய
रुद्रकेलयेருத்³ரகேலயே
रुद्रशान्त्यैருத்³ரஶாந்த்யை
रुद्रविष्णुब्रह्मादिजनकायருத்³ரவிஷ்ணுப்³ரஹ்மாதி³ ஜனகாய
रुद्रमण्डलसेवितायருத்³ரமண்ட³ல ஸேவிதாய
रुद्रमन्त्रजपप्रीतायருத்³ரமந்த்ர ஜபப்ரீதாய
रुद्रलोकप्रदायकायருத்³ரலோக ப்ரதா³யகாய
रुद्राक्षप्रियवत्सलायருத்³ராக்ஷ ப்ரியவத்ஸலாய
रुद्राक्षमालाभरणायருத்³ராக்ஷமாலாப⁴ரணாய
रुद्रात्मनेருத்³ராத்மனே
रुद्राध्यायजपप्रीताय नमः – ६४८०ருத்³ராத்⁴யாய ஜபப்ரீதாய நம​: – 6480

 
Post a Comment