Pages

Sunday, August 3, 2014

ஶிவம் - 6161_6200





यदुश्रेष्ठप्रियाय नमःயது³ஶ்ரேஷ்ட²ப்ரியாய நம​:
यदृच्छालाभसंतुष्टायயத்³ருʼச்சா²லாப⁴ஸந்துஷ்டாய
यदृच्छालाभसंतुष्टानां धवायயத்³ருʼச்சா²லாப⁴ஸந்துஷ்டானாம்ʼ த⁴வாய
यदुनाथसखावाप्तनिजास्त्रायயது³நாத² ஸகா²வாப்தனிஜாஸ்த்ராய
यादोनिधयेயாதோ³நித⁴யே
यादिजनकजन्तुसंसृष्टात्मनेயாதி³ஜனகஜந்து ஸம்ʼஸ்ருʼஷ்டாத்மனே
यादवानां प्रियायயாத³வானாம்ʼ ப்ரியாய
यादःपतयेயாத³​:பதயே
यान्द्यङ्गधातुसप्तक धारिणेயாந்த்³யங்க³ தா⁴து ஸப்தக தா⁴ரிணே
यादवानां शिरोरत्नायயாத³வானாம்ʼ ஶிரோரத்னாய
युधि शत्रुविनाशकायயுதி⁴ ஶத்ரு வினாஶகாய
युद्धकौशलायயுத்³த⁴கௌஶலாய
युद्धमध्यस्थितायயுத்³த⁴மத்⁴யஸ்தி²தாய
युद्धमर्मज्ञायயுத்³த⁴மர்மஜ்ஞாய
यूथिनेயூதி²னே
योध्रेயோத்⁴ரே
योधायोधनतत्परायயோதா⁴யோத⁴ன தத்பராய
यानप्रियायயானப்ரியாய
यानसेव्यायயானஸேவ்யாய
यूने नमः – ६१८०யூனே நம​: – 6180
योनये नमःயோனயே நம​:
योनिदोषविवर्जितायயோனி தோ³ஷ விவர்ஜிதாய
योनिष्टायயோனிஷ்டாய
योनिलिङ्गार्धधारिणेயோனிலிங்கா³ர்த⁴ தா⁴ரிணே
यूपायயூபாய
यूपाकृतयेயூபாக்ருʼதயே
यूपनाथायயூப நாதா²ய
यूपाश्रयायயூபாஶ்ரயாய
यंबीजजपसंतुष्टायயம்பீ³ஜ ஜப ஸந்துஷ்டாய
यमायயமாய
यमारयेயமாரயே
यमदण्डकायயமத³ண்ட³காய
यमनिषूदनायயமநிஷூத³னாய
यमप्राणायामवेद्यायயமப்ராணாயாம வேத்³யாய
यमसंयमनसंयुतायயமஸம்ʼய மனஸம்ʼயுதாய
यमसीताहरायயமஸீதாஹராய
यमवंशसमुद्भवायயமவம்ʼஶ ஸமுத்³ப⁴வாய
यमाद्यष्टाङ्गयोगस्थसंगमायயமாத்³யஷ்டாங்க³ யோக³ஸ்த² ஸங்க³மாய
यमाङ्गतूलदावांघ्रिकिरणायயமாங்க³தூல தா³வாங்க்⁴ரி கிரணாய
यमुनाविचिकानीलभ्रूलताय नमः – ६२००யமுனா விசிகா நீல ப்⁴ரூ லதாய நம​: – 6200



download

 
Post a Comment