Pages

Monday, August 4, 2014

ஶிவம் - 6201_6240



यमादियोगनिरताय नमःயமாதி³யோக³நிரதாய நம​:
यमप्राणनिर्वापणायயமப்ராண நிர்வாபணாய
यमिनेயமினே
यमराडवक्षःकवाटक्षतिकृतेயமராட³வக்ஷ​:கவாடக்ஷதி க்ருʼதே
यमरूपायயமரூபாய
यमबाधानिवर्तकाय யமபா³தா⁴ நிவர்தகாய
यमुनाप्रियायயமுனாப்ரியாய
यमशामकायயமஶாமகாய
यमजलेशधनेश नमस्कृतायயமஜலே ஶத⁴னேஶ நமஸ்க்ருʼதாய
यामान्तकायயாமாந்தகாய
यामार्चितायயாமார்சிதாய
यमादि दिगीश पूजितायயமாதி³ தி³கீ³ஶ பூஜிதாய
यमभयायயமப⁴யாய
यामघ्नायயாமக்⁴னாய
यमनाशायயமநாஶாய
यमभटभूतचमूभेतालायயமப⁴ட பூ⁴த சமூபே⁴தாலாய
यामिनेயாமினே
यामिनीनाथ रूपिणेயாமினீநாத² ரூபிணே
याम्यायயாம்யாய
याम्यदण्डपाश निकृन्तनाय नमः – ६२२०யாம்யத³ண்ட³பாஶ நிக்ருʼந்தனாய நம​: – 6220
यामिनी पति संसेव्याय नमःயாமினீ பதி ஸம்ʼஸேவ்யாய நம​:
यामिनीचरदर्पघ्नेயாமினீசர த³ர்பக்⁴னே
यामरूपायயாமரூபாய
यामपूजनसंतुष्टायயாமபூஜனஸந்துஷ்டாய
यायजूकायயாயஜூகாய
यायिभावप्रियायயாயிபா⁴வப்ரியாய
यलकायत गाण्डीवप्रहारायயலகாயத கா³ண்டீ³வ ப்ரஹாராய
यवनपुण्ड्राङ्ध्रशकदैतेयनाशकायயவன புண்ட்³ராங்த்⁴ரஶக தை³தேய நாஶகாய
यवान्नप्रीतचेतसेயவான்ன ப்ரீதசேதஸே
यवाक्षतार्चन प्रीतायயவாக்ஷதார்சன ப்ரீதாய
यवौदन प्रीत चित्तायயவௌத³ன ப்ரீத சித்தாய
यविष्ठायயவிஷ்டா²ய
यवीयसेயவீயஸே
यावचिन्हित पादुकायயாவசின்ஹித பாது³காய
युवतीसहितायயுவதீ ஸஹிதாய
युवतीविलासतरुणोत्तरवदनायயுவதீ விலாஸ தருணோத்தரவத³னாய
यौवनगर्वितायயௌவன க³ர்விதாய
यशसेயஶஸே
यशःप्रदायயஶ​:ப்ரதா³ய
यशस्विने नमः – ६२४०யஶஸ்வினே நம​: – 6240

 
Post a Comment