Pages

Friday, August 15, 2014

ஶிவம் - 6561_6600




रसालशालाहेलत्पिकनिनद मधुरवाग्जालाय नमःரஸாலஶாலா ஹேலத்பிகனினத³ மது⁴ர வாக்³ஜாலாய நம​:
रसानां पतयेரஸானாம்ʼ பதயே
रसायரஸாய
रसात्मकायரஸாத்மகாய
रसाधरेन्द्रचापशिन्जिनीकृतानिलाशिनेரஸாத⁴ரேந்த்³ர சாப ஶின்ஜினீ க்ருʼதானிலாஶினே
रासभायராஸபா⁴ய
रोहिणीपतिवल्लभायரோஹிணீபதி வல்லபா⁴ய
रोहितायரோஹிதாய
रहस्यायரஹஸ்யாய
रंहसेரம்ʼஹஸே
रंहसायரம்ʼஹஸாய
रहस्यलिङ्गायரஹஸ்ய லிங்கா³ய
राहवेராஹவே
रक्षाभूषणायரக்ஷாபூ⁴ஷணாய
रक्षसेரக்ஷஸே
रक्षिणेரக்ஷிணே
रक्षोऽधिपतयेரக்ஷோ(அ)தி⁴பதயே
रक्षोघ्नायரக்ஷோக்⁴னாய
रक्षोगणार्तिकृतेரக்ஷோக³ணார்தி க்ருʼதே
रक्षोघ्ने नमः -६५८०ரக்ஷோக்⁴னே நம​: -6580
राक्षसवरप्रदाय नमःராக்ஷஸ வரப்ரதா³ய நம​:
रक्षाकरायரக்ஷாகராய
रक्षाधरायரக்ஷாத⁴ராய
राक्षसारयेராக்ஷஸாரயே
राक्षसान्तकृतेராக்ஷஸாந்தக்ருʼதே
रूक्षरेतसेரூக்ஷரேதஸே
रूक्षाय नमः – ६५८७ரூக்ஷாய நம​: – 6587
लकारस्य शक्तिर्देवता | लक्ष्मिवष्यार्थे विनियोगः |லகாரஸ்ய ஶக்திர் தே³வதா | லக்ஷ்மி வஷ்யார்தே² வினியோக³​: |
लोकपालाय नमःலோகபாலாய நம​:
लोकविश्रुतायலோகவிஶ்ருதாய
लोकपाल समर्चितायலோகபால ஸமர்சிதாய
लोकचारिणेலோகசாரிணே
लोककर्त्रेலோககர்த்ரே
लोकसाक्षिणेலோகஸாக்ஷிணே
लोकहितायலோகஹிதாய
लोकरक्षापरायणायலோகரக்ஷா பராயணாய
लोकनेत्रेலோக நேத்ரே
लोककृतेலோகக்ருʼதே
लोकभृतेலோகப்⁴ருʼதே
लोककारायலோககாராய
लोकभावनाय नमः – ६६००லோகபா⁴வனாய நம​: – 6600



 Download
 
Post a Comment