Pages

Tuesday, August 5, 2014

ஶிவம் - 6241_6280



यशोवते नमःயஶோவதே நம​:
यशोनिधयेயஶோநித⁴யே
यशोधरायயஶோத⁴ராய
यशोयुतायயஶோயுதாய
यशस्करायயஶஸ்கராய
यशस्यनीतयेயஶஸ்ய நீதயே
यशस्य भुक्ति मुक्त्येक कारणायயஶஸ்ய பு⁴க்தி முக்த்யேக காரணாய
यश्शब्दस्येति मन्त्रोक्तदैवतायயஶ்ஶப்³த³ஸ்யேதி மந்த்ரோக்த தை³வதாய
यष्टिधरायயஷ்டித⁴ராய
यष्ट्रेயஷ்ட்ரே
याक्षरवामपादायயாக்ஷர வாமபாதா³ய
यष्टृफलदाय யஷ்ட்ருʼப²லதா³ய
योषापूजनप्रियायயோஷா பூஜனப்ரியாய
योषित्प्रियायயோஷித்ப்ரியாய
योषित्करतलस्पर्शप्रभावज्ञायயோஷித் கரதல ஸ்பர்ஶ ப்ரபா⁴வஜ்ஞாய
योषार्धीकृतविग्रहायயோஷார்தீ⁴ க்ருʼத விக்³ரஹாய
योषित्सङ्ग विवर्जितायயோஷித்ஸங்க³ விவர்ஜிதாய
यस्मैயஸ்மை
यस्मै नमः श्रुतिप्रोक्तानमस्यायயஸ்மை நம​: ஶ்ருதி ப்ரோக்தா நமஸ்யாய
यक्षेशाय नमः – ६२६०யக்ஷேஶாய நம​: – 6260
यक्षेश्वराय नमःயக்ஷேஶ்வராய நம​:
यक्षेशसखायயக்ஷேஶஸகா²ய
यक्षायயக்ஷாய
यक्षरक्षाकरायயக்ஷரக்ஷாகராய
यक्षरूपायயக்ஷரூபாய
यक्षकिन्नरसेवितायயக்ஷ கின்னர ஸேவிதாய
यक्षप्रियायயக்ஷப்ரியாய
यक्षनायकदुष्प्रापवरदायயக்ஷ நாயக து³ஷ்ப்ராபவரதா³ய
यक्षराज सखायயக்ஷராஜ ஸகா²ய
यक्षपूजितायயக்ஷ பூஜிதாய
यक्षराक्षससंसेव्यायயக்ஷ ராக்ஷஸ ஸம்ʼஸேவ்யாய
यक्षाणां पतयेயக்ஷாணாம்ʼ பதயே
यक्षसेव्यायயக்ஷஸேவ்யாய
यक्षगानप्रियायயக்ஷகா³ன ப்ரியாய
यक्षकन्याहृदिस्थायயக்ஷகன்யா ஹ்ருʼதி³ஸ்தா²ய
यक्षभोगप्रदायिनेயக்ஷபோ⁴க³ ப்ரதா³யினே
यक्षकिन्नरगन्धर्वैः सेवितायயக்ஷ கின்னர க³ந்த⁴ர்வை​: ஸேவிதாய
यक्षेशेष्टायயக்ஷேஶேஷ்டாய
यक्ष स्वरूपायயக்ஷ ஸ்வரூபாய
यक्षार्चिताय नमः – ६२८०யக்ஷார்சிதாய நம​: – 6280

 
Post a Comment