Pages

Tuesday, August 26, 2014

ஶிவம் - 6841_6880



विघ्नेश्वरायவிக்⁴னேஶ்வராய
विघ्नकर्त्रेவிக்⁴னகர்த்ரே
विघ्नहर्त्रेவிக்⁴னஹர்த்ரே
विघ्नेशविधिमार्ताण्डचन्द्रेन्द्रोपेन्द्र वन्दितायவிக்⁴னேஶ விதி⁴ மார்தாண்ட³ சந்த்³ரேந்த்³ரோபேந்த்³ர வந்தி³தாய
विघ्नेश्वरवरप्रदायவிக்⁴னேஶ்வர வரப்ரதா³ய
विघ्नराजायவிக்⁴னராஜாய
विघ्ननाशकायவிக்⁴னநாஶகாய
वञ्चर्मांबरधरायவஞ்சர்மாம்ப³ரத⁴ராய
वञ्चकायவஞ்சகாய
वञ्चतेவஞ்சதே
वाचालकायவாசாலகாய
वाचासिद्धायவாசாஸித்³தா⁴ய
वाचस्पतिसमार्चितायவாசஸ்பதிஸமார்சிதாய
वाचस्पतयेவாசஸ்பதயே
वाचस्पत्यायவாசஸ்பத்யாய
वाचातीतमनोतीतमहितायவாசாதீத மனோதீத மஹிதாய
वाचामगोचरायவாசாமகோ³சராய
वाचस्पत्यप्रदायकायவாசஸ்பத்ய ப்ரதா³யகாய
वाचां मनसोतिऽदूरकायவாசாம்ʼ மனஸோதி(அ)தூ³ரகாய
वाच्यवाचकरूपाय नमः – ६८६०வாச்யவாசகரூபாய நம​: – 6860
वाच्यवाचकशक्त्यर्थायவாச்யவாசகஶக்த்யர்தா²ய
वाङ्मनोतीतवैभवायவாங்மனோதீத வைப⁴வாய
वाङ्मयैकनिधयेவாங்மயைக நித⁴யே
विचक्षणायவிசக்ஷணாய
विचारविदेவிசாரவிதே³
विचित्रमायिनेவிசித்ரமாயினே
विचित्रचरितायவிசித்ரசரிதாய
विचित्रमाल्यवसनायவிசித்ரமால்யவஸனாய
विचित्रताण्डवप्रियायவிசித்ரதாண்ட³வப்ரியாய
विचित्रायவிசித்ராய
विचिन्वत्केभ्योவிசின்வத்கேப்⁴யோ
विचित्रगतयेவிசித்ரக³தயே
विचित्रवेषायவிசித்ரவேஷாய
विचित्रशक्तयेவிசித்ரஶக்தயே
विचित्राभरणायவிசித்ராப⁴ரணாய
विचित्रमणिमूर्ध्नेவிசித்ரமணிமூர்த்⁴னே
वाञ्छानुकलितानेकस्वरूपायவாஞ்சா²னுகலிதானேகஸ்வரூபாய
वाञ्छितार्थप्रदायिनेவாஞ்சி²தார்த² ப்ரதா³யினே
वाञ्छितदानधुरीणायவாஞ்சி²த தா³ன து⁴ரீணாய
वाञ्छितदायकाय नमः – ६८८०வாஞ்சி²த தா³யகாய நம​: – 6880

 
Post a Comment