Pages

Monday, December 8, 2014

ஶிவம் - 9601_9640



सर्वोपद्रवनाशनाय नमःஸர்வோபத்³ரவ நாஶனாய நம:
सर्वोपनिषदास्थितायஸர்வோபனிஷதா³ ஸ்தி²தாய
सर्वोत्तुङ्गायஸர்வோத்துங்கா³ய
स्वर्णरत्नाङ्गदलसत्पञ्जचद्वयभुजान्विदायஸ்வர்ண ரத்னாங்க³த³லஸத் பஞ்சத்³வய பு⁴ஜான்விதா³ய
स्वर्णवर्णशेषपाशशोभिताङ्गमण्डलायஸ்வர்ணவர்ண ஶேஷபாஶ ஶோபி⁴தாங்க³ மண்ட³லாய
स्वर्णकेशायஸ்வர்ணகேஶாய
सर्पभूषायஸர்பபூ⁴ஷாய
सर्पहारायஸர்பஹாராய
सर्पयज्ञोपवीतिनेஸர்ப யஜ்ஞோபவீதினே
सर्पग्रैवेयकाङ्गदायஸர்ப க்³ரைவேயகாங்க³தா³ய
सर्पराजोत्तरीयायஸர்ப ராஜோத்தரீயாய
सर्पप्रोतकपालशुक्तिशकलव्याकीर्णपञ्चोरगायஸர்ப ப்ரோத கபால ஶுக்தி ஶகல வ்யாகீர்ண பஞ்சோரகா³ய
सर्पाधीराजौषधिनाथयुद्धक्षुभ्यज्जटामण्डलगह्वरायஸர்பாதீ⁴ராஜௌஷதி⁴ நாத² யுத்³த⁴க்ஷுப்⁴யஜ்ஜடா மண்ட³ல க³ஹ்வராய
स्वर्गमार्गनिरर्गलायஸ்வர்க³மார்க³ நிரர்க³லாய
स्वर्गापवर्गदात्रेஸ்வர்கா³பவர்க³ தா³த்ரே
स्वर्धुन्यूर्ध्वजलक्लिन्नजटामण्डलमण्डितायஸ்வர்து⁴ன்யூர்த்⁴வஜலக்லின்ன ஜடாமண்ட³ல மண்டி³தாய
स्वर्धुनीचन्द्रशकलवीराजितकिरीटकायஸ்வர்து⁴னீ சந்த்³ர ஶகல வீராஜித கிரீடகாய
सरोजकिंजल्कसमानवर्णायஸரோஜகிஞ்ஜல்க ஸமானவர்ணாய
स्मरारातयेஸ்மராராதயே
स्मरप्राणदीपकाय नमः – ९६२० ஸ்மரப்ராணதீ³பகாய நம: – 9620
स्मरान्तकाय नमःஸ்மராந்தகாய நம:
स्मरहरायஸ்மரஹராய
स्मरशासनायஸ்மரஶாஸனாய
स्मरमदाविनाशनायஸ்மரமதா³வினாஶனாய
सारसंसभवसन्नुतायஸாரஸம்ʼஸ ப⁴வஸன்னுதாய
सारङ्गद्विजसंतापशमनायஸாரங்க³ த்³விஜ ஸந்தாப ஶமனாய
सारग्रीवायஸாரக்³ரீவாய
सारविशारदायஸாரவிஶாரதா³ய
सारसाक्षसमुरुज्जृम्भसायकायஸாரஸாக்ஷ ஸமுருஜ்ஜ்ருʼம்ப⁴ ஸாயகாய
सारभूतायஸாரபூ⁴தாய
सारग्राहिनेஸாரக்³ராஹினே
सार्वकालिकसंसिद्धयेஸார்வகாலிக ஸம்ʼஸித்³த⁴யே
स्थिरायஸ்தி²ராய
स्थिरधन्विनेஸ்தி²ரத⁴ன்வினே
स्थिरभक्तियोगसुलभायஸ்தி²ர ப⁴க்தியோக ³ஸுலபா⁴ய
स्थिरविज्ञानायஸ்தி²ர விஜ்ஞானாய
स्थिरप्रज्ञायஸ்தி²ர ப்ரஜ்ஞாய
स्थिरयोगायஸ்தி²ர யோகா³ய
स्थिरमार्गायஸ்தி²ர மார்கா³ய
स्थिरासनाय नमः – ९६४०ஸ்தி²ராஸனாய நம: – 9640

 
Post a Comment