Pages

Tuesday, December 9, 2014

ஶிவம் - 9641_9680




स्थिरागमनाय नमःஸ்தி²ராக³மனாய நம:
सुरविद्विषां प्रह्लादायஸுரவித்³விஷாம்ʼ ப்ரஹ்லாதா³ய
सुरगुरुसुरवरपूजितलिङ्गायஸுரகு³ரு ஸுரவர பூஜிதலிங்கா³ய
सुरवनपुष्पसदार्चितलिङ्गायஸுர வனபுஷ்ப ஸதா³ர்சித லிங்கா³ய
सुरवन्द्यपादायஸுர வந்த்³யபாதா³ய
सुरसिद्धनिवासायஸுரஸித்³த⁴ நிவாஸாய
सुरगुरुप्रियायஸுரகு³ருப்ரியாய
सुरदेवायஸுரதே³வாய
सुरभ्युत्तरणायஸுரப்⁴யுத்தரணாய
सुरशत्रुघ्नेஸுர ஶத்ருக்⁴னே
सुरभयेஸுரப⁴யே
सुरकार्यहितायஸுரகார்ய ஹிதாய
सुरवल्लभायஸுரவல்லபா⁴ய
सुरनिम्नगाधरायஸுர நிம்னகா³த⁴ராய
सुरवरमुनिसेवितायஸுரவரமுனிஸேவிதாய
सुरम्यरूपायஸுரம்ய ரூபாய
सुरमुनिसन्नुतायஸுரமுனி ஸன்னுதாய
सुरगणैर्गेयायஸுரக³ணைர்கே³யாய
सुरगनार्चितपादायஸுரக³னார்சிதபாதா³ய
सुरपतिस्तुताय नमः – ९६६०ஸுரபதிஸ்துதாய நம: – 9660
सुरमुनिगणसुप्रसादकाय नमःஸுரமுனிக³ண ஸுப்ரஸாத³காய நம:
सुरमुनिस्वान्तांबुजाताश्रयायஸுரமுனி ஸ்வாந்தாம்பு³ஜாதாஶ்ரயாய
सुरारिघ्नेஸுராரிக்⁴னே
सुराग्रगण्यदेवायஸுராக்³ர க³ண்ய தே³வாய
सुरासुराराधितपादपद्मायஸுராஸுராராதி⁴த பாத³பத்³மாய
सुरासुरनमस्कृतायஸுராஸுர நமஸ்க்ருʼதாய
सुराधिपायஸுராதி⁴பாய
सुरारिसंहर्त्रेஸுராரி ஸம்ʼஹர்த்ரே
सुराङ्गनानृत्यपारायஸுராங்க³னான்ருʼத்யபாராய
सुरुचिररुचिजालायஸுருசிரருசிஜாலாய
सुरेशोरुकिरीटनामरत्नावृताष्टापदविष्टरायஸுரேஶோரு கிரீடனாம ரத்னாவ்ருʼதாஷ்டாபத³விஷ்டராய
सुरेशाद्यभिवन्दितायஸுரேஶாத்³யபி⁴ வந்தி³தாய
शुरेशानायஶுரேஶானாய
सुरोत्तमायஸுரோத்தமாய
सुरोत्तमोत्तमायஸுரோத்தமோத்தமாய
सूर्यकोटिविभासुरायஸூர்யகோடி விபா⁴ஸுராய
सूर्यमण्डलमध्यगायஸூர்யமண்ட³ல மத்⁴யகா³ய
सूर्याणां पतयेஸூர்யாணாம்ʼ பதயே
सूर्यचन्द्राग्निग्रहनक्षत्ररूपिणेஸூர்யசந்த்³ராக்³னி க்³ரஹ நக்ஷத்ரரூபிணே
सूरिजनगेयाय नमः --९६८०ஸூரிஜனகே³யாய நம: --9680

 
Post a Comment