Pages

Friday, December 19, 2014

ஶிவம் - 9961_10000




क्षेत्राणां पतये नमःக்ஷேத்ராணாம்ʼ பதயே நம:
क्षेत्राधिपतयेக்ஷேத்ராதி⁴பதயே
क्षेत्राणामविमुक्तकायக்ஷேத்ராணாம விமுக்தகாய
क्षुद्रघ्नेக்ஷுத்³ரக்⁴னே
क्षुधामरायக்ஷுதா⁴மராய
क्षुन्निवारकायக்ஷுன்னிவாரகாய
क्षपणायக்ஷபணாய
क्षपणदक्षायக்ஷபணத³க்ஷாய
क्षपापालायக்ஷபாபாலாய
क्षपितपूर्वदैत्यायக்ஷபிதபூர்வ தை³த்யாய
क्षिप्रेषवेக்ஷிப்ரேஷவே
क्षिप्रदग्धपुरत्रयायக்ஷிப்ர த³க்³த⁴புர த்ரயாய
क्षिप्रक्षेमंकरायக்ஷிப்ரக்ஷேமங்கராய
क्षिप्रप्रसन्नायக்ஷிப்ரப்ரஸன்னாய
क्षिप्रप्रसादनायக்ஷிப்ர ப்ரஸாத³னாய
क्षुम्बीजायக்ஷும்பீ³ஜாய
क्ष्माभृतेக்ஷ்மாப்⁴ருʼதே
क्षोभ्यायக்ஷோப்⁴யாய
क्षोभरहितायக்ஷோப⁴ரஹிதாய
क्षोभनाशकाय नमः --९९८०க்ஷோப⁴ நாஶகாய நம: --9980
क्षोभवर्जिताय नमःக்ஷோப⁴வர்ஜிதாய நம:
क्षोभहारिणेக்ஷோப⁴ஹாரிணே
क्षमायக்ஷமாய
क्षमापरपरायणायக்ஷமாபரபராயணாய
क्षमिणां वरायக்ஷமிணாம்ʼ வராய
क्षमाधनायக்ஷமாத⁴னாய
क्षमाधारायக்ஷமாதா⁴ராய
क्षमालयेக்ஷமாலயே
क्षमापतयेக்ஷமாபதயே
क्षमाभर्त्रेக்ஷமாப⁴ர்த்ரே
क्षमावतेக்ஷமாவதே
क्षमाप्रियायக்ஷமாப்ரியாய
क्षेमेश्वरायக்ஷேமேஶ்வராய
क्षामायக்ஷாமாய
क्षामहरायக்ஷாமஹராய
क्षामवतेக்ஷாமவதே
क्षामोदरायக்ஷாமோத³ராய
क्षामगात्रायக்ஷாமகா³த்ராய
क्षमाकरायக்ஷமாகராய
क्षेमंकराय नमः -- १००००க்ஷேமங்கராய நம: -- 10000


Download

பத்தாயிரம் நாமாக்களையும்  இந்த தொடுப்பில் பார்க்கலாம்; தரவிறக்கிக்கொள்ளலாம்.


இத்துடன் இந்த தொடர் நிறைவடைகிறது! நமசிவாய!
ப்ரதோஷ வேளையில்  நிறைவடைவது எதிர்பாராதது; அவன் அருள்!




Post a Comment