Pages

Thursday, December 18, 2014

ஶிவம் - 9921_9960




हंसगतये नमःஹம்ʼஸக³தயே நம:
हंसाराध्यायஹம்ʼஸாராத்⁴யாய
हंसाब्जसंभवसुदूर सुमस्तकायஹம்ʼஸாப்³ஜ ஸம்ப⁴வஸுதூ³ர ஸுமஸ்தகாய
हंसनाथायஹம்ʼஸ நாதா²ய
हंसमंडलमध्यस्थायஹம்ʼஸ மண்ட³ல மத்⁴யஸ்தா²ய
हंसमंडलवासायஹம்ʼஸமண்ட³லவாஸாய
हंसनेत्रायஹம்ʼஸ நேத்ராய
हंसचक्ररथस्थायஹம்ʼஸ சக்ர ரத²ஸ்தா²ய
हंसचक्रनिवासायஹம்ʼஸ சக்ர நிவாஸாய
हस्तेवन्हिधरायஹஸ்தே வன்ஹி த⁴ராய
हस्तायஹஸ்தாய
हस्तराजत्पुंडरीकायஹஸ்தராஜத் புண்ட³ரீகாய
ह्रस्वायஹ்ரஸ்வாய
हासमुखाव्जायஹாஸமுகா²வ்ஜாய
हिंस्रश्माशानिकोन्मोहनर्तनायஹிம்ʼஸ்ரஶ்மாஶானிகோன்மோஹனர்தனாய
हैहयेशायஹைஹயேஶாய
हाहाशब्दपरायणाय नमः --९९३७ஹாஹாஶப்³த³பராயணாய நம: --9937
क्षकारस्य नृसिंहो देवता शत्रुजयार्थे विनियोगःக்ஷகாரஸ்ய ந்ருʼஸிம்ʼஹோ தே³வதா ஶத்ருஜயார்தே² வினியோக³:
क्षांकारबीजनिलयाय नमःக்ஷாங்கார பீ³ஜ நிலயாய நம:
क्षैंकारबीजनिलयायக்ஷைங்கார பீ³ஜ நிலயாய
क्षणीकानां क्षणाकाराय नमः --९९४०க்ஷணீகானாம்ʼ க்ஷணாகாராய நம: --9940
क्षणाय नमःக்ஷணாய நம:
क्षणानांपतयेக்ஷணானாம்' பதயே
क्षोणीपतिप्रीतिकरायக்ஷோணீபதி ப்ரீதிகராய
क्षत्तृभ्यो नमः க்ஷத்த்ருʼப்⁴யோ நம:
क्षतिक्षमायக்ஷதிக்ஷமாய
क्षान्तायக்ஷாந்தாய
क्षान्तिकरायக்ஷாந்திகராய
क्षान्तिनिलयायக்ஷாந்தி நிலயாய
क्षान्त्यास्पदायக்ஷாந்த்யாஸ்பதா³ய
क्षितौ पञ्चगुनप्रदायக்ஷிதௌ பஞ்ச கு³ண ப்ரதா³ய
क्षितिपतिपतयेக்ஷிதிபதிபதயே
क्षितीशायக்ஷிதீஶாய
क्षितिरूपाय க்ஷிதிரூபாய
क्षेत्रायக்ஷேத்ராய
क्षेत्रपतयेக்ஷேத்ரபதயே
क्षेत्रेशायக்ஷேத்ரேஶாய
क्षेमकृतेக்ஷேமக்ருʼதே
क्षेत्रज्ञायக்ஷேத்ரஜ்ஞாய
क्षेत्र क्षेत्रज्ञायக்ஷேத்ர க்ஷேத்ரஜ்ஞாய
क्षेत्रपालकाय नमः -- ९९६०க்ஷேத்ரபாலகாய நம: -- 9960

 
Post a Comment