Pages

Thursday, December 11, 2014

ஶிவம் - 9721_9760



सहस्राक्षाय नमःஸஹஸ்ராக்ஷாய நம:
सहस्रपन्ननिलयायஸஹஸ்ரபன்ன நிலயாய
सहस्रपदेஸஹஸ்ரபதே³
सहस्रफणिभूषणायஸஹஸ்ரப²ணி பூ⁴ஷணாய
सहस्रनामसंस्तुत्यायஸஹஸ்ர நாம ஸம்ʼஸ்துத்யாய
सहस्रबाहवेஸஹஸ்ரபா³ஹவே
सहस्रयुगधारिणेஸஹஸ்ர யுக³ தா⁴ரிணே
सहस्रपादचारायஸஹஸ்ரபாத³ சாராய
सहस्रमूर्ध्नेஸஹஸ்ரமூர்த்⁴னே
सहस्रमूर्तयेஸஹஸ்ரமூர்தயே
सहस्राक्षबलावहायஸஹஸ்ராக்ஷ ப³லாவஹாய
सहस्रलोचनप्रभृत्यशेषलेखशेखर प्रसून धूलिधोरणि विधूसराम्घ्निपीठभुवेஸஹஸ்ரலோசன ப்ரப்⁴ருʼத்ய ஶேஷலேக²ஶேக²ர ப்ரஸூன தூ⁴லிதோ⁴ரணி விதூ⁴ஸராம்க்⁴னிபீட²பு⁴வே
सहस्रागमकटीतटायஸஹஸ்ராக³ம கடீதடாய
सहस्रभानुसंकाशचक्रदायஸஹஸ்ரபா⁴னு ஸங்காஶ சக்ரதா³ய
सहस्रकोटितपनसंकाशायஸஹஸ்ரகோடி தபன ஸங்காஶாய
सहस्रारमहामंदिरायஸஹஸ்ரார மஹாமந்தி³ராய
सहस्रलिङ्गायஸஹஸ்ர லிங்கா³ய
सहस्रदलमध्यस्थायஸஹஸ்ரத³ல மத்⁴யஸ்தா²ய
सहस्रप्रणवाय ஸஹஸ்ர ப்ரணவாய
सहस्रनयनादिवन्दिताय नमः --९७४०ஸஹஸ்ர நயனாதி³ வந்தி³தாய நம: --9740
सहस्रार्कच्छटाभास्वद्विमानांतस्थिताय नमःஸஹஸ்ரார்கச்ச²டா பா⁴ஸ்வத்³ விமானாந்த ஸ்தி²தாய நம:
सहमानायஸஹமானாய
सहजानंदायஸஹஜானந்தா³ய
सहजानंदसंदोहसंयुक्तायஸஹஜானந்த³ ஸந்தோ³ஹ ஸம்ʼயுக்தாய
सहिष्णवेஸஹிஷ்ணவே
संहर्त्रेஸம்ʼஹர்த்ரே
संहारकर्त्रेஸம்ʼஹார கர்த்ரே
संहारमूर्तयेஸம்ʼஹார மூர்தயே
सह्यगोदावरीतीरवासायஸஹ்ய கோ³தா³வரீ தீர வாஸாய
स्वाहाकारायஸ்வாஹாகாராய
स्वाहाशक्तयेஸ்வாஹாஶக்தயே
सिंहस्कंधायஸிம்ʼஹ ஸ்கந்தா⁴ய
सिंहशार्दूलरूपायஸிம்ʼஹ ஶார்தூ³ல ரூபாய
सिंहदंष्ट्रायஸிம்ʼஹ த³ம்ʼஷ்ட்ராய
सिंहवाहनायஸிம்ʼஹ வாஹனாய
सिंहसंहननायஸிம்ʼஹ ஸம்ʼஹனனாய
सुहृदेஸுஹ்ருʼதே³
सुहोत्रायஸுஹோத்ராய
सुहृत्प्रियायஸுஹ்ருʼத்ப்ரியாய
साक्षिणे नमः -- ९७६०ஸாக்ஷிணே நம: -- 9760

Post a Comment