Pages

Friday, March 7, 2014

ஶிவம் 2321_2360



जरातिगाय नमःஜராதிகா³ய நம​:
जराहीनायஜராஹீனாய
जरठायஜரடா²ய
जरत्क्षारायஜரத்க்ஷாராய
जरासंधसमार्चितायஜராஸந்த⁴ஸமார்சிதாய
जराहरायஜராஹராய
जारायஜாராய
जीर्णाजीर्णपतयेஜீர்ணாஜீர்ணபதயே
जलभूतायஜலபூ⁴தாய
जलशायिनेஜலஶாயினே
जलरूपायஜலரூபாய
जलायஜலாய
जलेशायஜலேஶாய
जलेश्वरायஜலேஶ்வராய
जलोद्भवायஜலோத்³ப⁴வாய
जलंधरशिरश्छेत्रेஜலந்த⁴ரஶிரஶ்சே²த்ரே
जलंधरासुरशिरश्छेदकायஜலந்த⁴ராஸுரஶிரஶ்சே²த³காய
जालंधरपीठेश्वरायஜாலந்த⁴ரபீடே²ஶ்வராய
ज्वलत् पावकलोचनायஜ்வலத் பாவகலோசனாய
ज्वलज्ज्वालावली भीमविषघ्नाय नमः – २३४०ஜ்வலஜ்ஜ்வாலாவலீ பீ⁴மவிஷக்⁴னாய நம​: – 2340
ज्वलनस्तम्भमूर्तये नमःஜ்வலன ஸ்தம்ப⁴ மூர்தயே நம​:
ज्वलज्ज्वालामालिनेஜ்வலஜ்ஜ்வாலாமாலினே
जललाटभूषणायஜலலாடபூ⁴ஷணாய
ज्वालिनेஜ்வாலினே
ज्वालामालावृतायஜ்வாலாமாலாவ்ருʼதாய
जालंधरहरायஜாலந்த⁴ரஹராய
जीवायஜீவாய
जीवातवेஜீவாதவே
जीवनैषधायஜீவனைஷதா⁴ய
जीवनाधारायஜீவனாதா⁴ராய
जीवितेशायஜீவிதேஶாய
जीवनायஜீவனாய
जीववरदायஜீவவரதா³ய
जीवितेशायஜீவிதேஶாய
जीवितेश्वरायஜீவிதேஶ்வராய
जीवितान्तकायஜீவிதாந்தகாய
जिष्णवेஜிஷ்ணவே
ज्येष्ठायஜ்யேஷ்டா²ய
जिह्वायतनाय नमः – २३५९ஜிஹ்வாயதனாய நம​: – 2359
झकारस्य ब्रह्मा देवता | धर्मार्थकाममोक्षार्थे विनियोगःஜ²காரஸ்ய ப்³ரஹ்மா தே³வதா | த⁴ர்மார்த²காமமோக்ஷார்தே² வினியோக³​:
झम्वामकर्ण भूषणाय नमः – २३६०ஜ²ம்வாமகர்ண பூ⁴ஷணாய நம​: – 2360

 
Post a Comment