Pages

Monday, March 17, 2014

ஶிவம் 2601_2640



तमसे नमःதமஸே நம​:
तमोगुणायதமோகு³ணாய
तमोपहायதமோபஹாய
तमसः परायதமஸ​: பராய
तमोमयायதமோமயாய
तमिस्रघ्नेதமிஸ்ரக்⁴னே
तमिस्रमथनायதமிஸ்ரமத²னாய
तमिस्रानायकायதமிஸ்ரானாயகாய
तमीनचूडायதமீனசூடா³ய
तमालकुसुमाकृतयेதமாலகுஸுமாக்ருʼதயே
तामसात्मनेதாமஸாத்மனே
तामसप्रियायதாமஸப்ரியாய
ताम्रजिह्वायதாம்ரஜிஹ்வாய
ताम्रचक्षुषेதாம்ரசக்ஷுஷே
ताम्रवक्त्रायதாம்ரவக்த்ராய
ताम्राधरायதாம்ராத⁴ராய
ताम्रायதாம்ராய
ताम्रोष्ठायதாம்ரோஷ்டா²ய
ताम्रचूडायதாம்ரசூடா³ய
ताम्रवर्णबिलप्रियाय नमः २६२०தாம்ரவர்ண பி³ல ப்ரியாய நம​: 2620
ताम्रपर्णी जलप्रियाय नमःதாம்ரபர்ணீ ஜலப்ரியாய நம​:
ताम्रनेत्र विभूषितायதாம்ர நேத்ர விபூ⁴ஷிதாய
ताम्रपर्णी समुद्रसंगमे सेतुबन्ध रामेश्वरायதாம்ரபர்ணீ ஸமுத்³ரஸங்க³மே ஸேதுப³ந்த⁴ ராமேஶ்வராய
त्रिमूर्तयेத்ரிமூர்தயே
त्रिमधुरायத்ரிமது⁴ராய
त्रिमल्लेशायத்ரிமல்லேஶாய
त्रिमेखलायத்ரிமேக²லாய
तुमुलायதுமுலாய
तोमरायதோமராய
तंयज्ञोपवीतायதம்ʼயஜ்ஞோபவீதாய
त्रियीमूर्तयेத்ரியீமூர்தயே
त्रियीतनवेத்ரியீதனவே
त्रियीमयायத்ரியீமயாய
त्रियीवेद्यायத்ரியீவேத்³யாய
त्रियीवन्द्यायத்ரியீவந்த்³யாய
त्रयन्त निलयायத்ரயந்த நிலயாய
तोयात्मनेதோயாத்மனே
तरुणायதருணாய
तरलायதரலாய
तरस्विने नमः – २६४०தரஸ்வினே நம​: – 2640

 
Post a Comment