Pages

Tuesday, March 4, 2014

ஶிவம் - 2201_2240



जगत्स्थावरजङ्गमाय नमःஜக³த்ஸ்தா²வரஜங்க³மாய நம​:
जगत्त्रात्रेஜக³த்த்ராத்ரே
जगस्थायஜக³ஸ்தா²ய
जगदुज्जीनव कौतुकिनेஜக³து³ஜ்ஜீனவ கௌதுகினே
जगद्धितैषिणेஜக³த்³தி⁴தைஷிணே
जगत्त्रितय संरक्षाजागरूकायஜக³த்த்ரிதய ஸம்ʼரக்ஷா ஜாக³ரூகாய
जगदधिकायஜக³த³தி⁴காய
जङ्गमायஜங்க³மாய
जङ्गमात्मकायஜங்க³மாத்மகாய
जङ्गमाजङ्गमात्मकायஜங்க³மாஜங்க³மாத்மகாய
जैगिषव्येश्वरायஜைகி³ஷவ்யேஶ்வராய
जगदादिजायஜக³தா³தி³ஜாய
जघन्यायஜக⁴ன்யாய
जटाधरायஜடாத⁴ராய
जटामण्डलमण्डितायஜடாமண்ட³ல மண்டி³தாய
जातपटलकोटिरङ्गापुरविराजितायஜாதபடல கோடி ரங்கா³புர விராஜிதாய
जटिलायஜடிலாய
जातजूटप्रशोभितायஜாதஜூடப்ரஶோபி⁴தாய
जटीशायஜடீஶாய
जटामुकुटमण्डिताय नमः – २२२०ஜடாமுகுடமண்டி³தாய நம​: – 2220
जटामण्डलगह्वराय नमःஜடாமண்ட³ல க³ஹ்வராய நம​:
जटाभस्मभूषितायஜடா ப⁴ஸ்ம பூ⁴ஷிதாய
जटाधारायஜடாதா⁴ராய
जटाजूट गङ्गोत्तरङ्गैर्विशालायஜடாஜூட க³ங்கோ³த்தரங்கை³ர் விஶாலாய
जटाकटाह संभ्रमभ्रमन्निलिंप निर्झरी विलोलवीचिवल्लरी विराजमान मूर्ध्नेஜடாகடாஹ ஸம்ப்⁴ரமப்⁴ரமன்னிலிம்ப நிர்ஜ²ரீ விலோலவீசிவல்லரீ விராஜமான மூர்த்⁴னே
जटाभुजङ्ग पिङ्गल स्फुरत्फणामणिप्रभाकदंब कुङ्कुमद्रव प्रलिप्तदिग्वधूमुखायஜடாபு⁴ஜங்க³ பிங்க³ல ஸ்பு²ரத் ப²ணா மணிப்ரபா⁴ கத³ம்ப³ குங்குமத்³ரவ ப்ரலிப்ததி³க்³வதூ⁴முகா²ய
जठरायஜட²ராய
जठराग्निप्रवर्धकायஜட²ராக்³னி ப்ரவர்த⁴காய
जाड्यहरायஜாட்³ய ஹராய
जातूकर्ण्यायஜாதூகர்ண்யாய
जातयेஜாதயே
जातिनाथायஜாதிநாதா²ய
जातिवर्ण रहितायापि ब्राह्मणत्वेन विश्रुतायஜாதிவர்ண ரஹிதாயாபி ப்³ராஹ்மணத்வேன விஶ்ருதாய
जितशत्रवेஜிதஶத்ரவே
जितकामायஜிதகாமாய
जितप्रियायஜிதப்ரியாய
जितेन्द्रियायஜிதேந்த்³ரியாய
जितविश्वायஜிதவிஶ்வாய
जितश्रमायஜிதஶ்ரமாய
जितलोभाय नमः – २२४० ஜிதலோபா⁴ய நம​: – 2240

 
Post a Comment