Pages

Monday, March 31, 2014

ஶிவம் 3001_3040



देवगङ्गाजटाजूटाय नमःதே³வ க³ங்கா³ ஜடா ஜூடாய நம​:
देवेन्द्ररक्षकायதே³வேந்த்³ர ரக்ஷகாய
देवान्तकवरप्रदायதே³வாந்தக வர ப்ரதா³ய
देवासुराराध्यायதே³வாஸுராராத்⁴யாய
देवासुरवरप्रदायதே³வாஸுர வர ப்ரதா³ய
देवासुरतपस्तुष्टायதே³வாஸுர தபஸ்துஷ்டாய
देवासुरगणाध्यक्षायதே³வாஸுர க³ணாத்⁴யக்ஷாய
देवासुरेश्वरायதே³வாஸுரேஶ்வராய
देवासुरगुरवेதே³வாஸுர கு³ரவே
देवासुरनमस्कृतायதே³வாஸுர நமஸ்க்ருʼதாய
देवासुरमहामात्रायதே³வாஸுர மஹா மாத்ராய
देवासुरमहाश्रयायதே³வாஸுர மஹா ஶ்ரயாய
देवासुरमहेश्वरायதே³வாஸுர மஹேஶ்வராய
देवर्षिदेवासुरप्रदायதே³வர்ஷி தே³வாஸுர ப்ரதா³ய
देवादिदेवायதே³வாதி³ தே³வாய
देवात्मनेதே³வாத்மனே
देवनाथायதே³வ நாதா²ய
देवप्रियायதே³வ ப்ரியாய
देवज्ञाय नमः – ३०२०தே³வஜ்ஞாய நம​: – 3020
देवचिन्तकाय नमःதே³வ சிந்தகாய நம​:
देवानां शतक्रतवेதே³வானாம்ʼ ஶத க்ரதவே
देव्यादिप्रीतिकरायதே³வ்யாதி³ ப்ரீதிகராய
देवतानवदैत्यानां गुरवेதே³வ தானவ தை³த்யானாம்ʼ கு³ரவே
देवगर्भायதே³வ க³ர்பா⁴ய
देवगणार्चितसेवितलिङ्गायதே³வ க³ணார்சித ஸேவித லிங்கா³ய
देवसिंहायதே³வ ஸிம்ʼஹாய
देवमुनिप्रवरार्चितलिङ्गायதே³வ முனி ப்ரவரார்சித லிங்கா³ய
देवकीसुतकौन्तेयवरदायதே³வகீ ஸுத கௌந்தேய வரதா³ய
देवानामीश्वरायதே³வானாமீஶ்வராய
देव्याःप्रियकरायதே³வ்யா​:ப்ரியகராய
देवराजायதே³வ ராஜாய
देवाधिपतयेதே³வாதி⁴ பதயே
देवासुरपतयेதே³வாஸுர பதயே
देवदेवेन्द्रमयायதே³வ தே³வேந்த்³ர மயாய
देवासुराविनिर्मात्रेதே³வாஸுராவினிர்மாத்ரே
देवसैन्यपतयेதே³வ ஸைன்ய பதயே
देवेशायதே³வேஶாய
देवासुरमहामान्यायதே³வாஸுர மஹா மான்யாய
देवभ्रुते नमः – ३०४०தே³வ ப்⁴ருதே நம​: – 3040

 
Post a Comment