Pages

Monday, March 24, 2014

ஶிவம் 2801_2840



दकारस्य महालक्ष्मीर्देवता | विषनाशणे विनियोग |த³காரஸ்ய மஹாலக்ஷ்மீர்தே³வதா | விஷ நாஶணே வினியோக³ |
दकाराय नमःத³காராய நம​:
दिक्पतयेதி³க்பதயே
दुःखहन्त्रेது³​:க²ஹந்த்ரே
दु:खदोषविवर्जितायது³:க²தோ³ஷவிவர்ஜிதாய
दिगंबरायதி³க³ம்ப³ராய
दिग्वाससेதி³க்³வாஸஸே
दिग्वस्त्रायதி³க்³வஸ்த்ராய
दुग्धान्नप्रीतमानसायது³க்³தா⁴ன்னப்ரீதமானஸாய
दुग्धाभिषेचनप्रीतायது³க்³தா⁴பி⁴ஷேசனப்ரீதாய
दृग्रूपायத்³ருʼக்³ரூபாய
दोग्ध्रेதோ³க்³த்⁴ரே
द्विजोत्तमायத்³விஜோத்தமாய
दण्डायத³ண்டா³ய
दण्डिनेத³ண்டி³னே
दण्डहस्तायத³ண்ட³ஹஸ்தாய
दण्डरूपायத³ண்ட³ரூபாய
दण्डनीतयेத³ண்ட³னீதயே
दण्डकारण्यनिलयायத³ண்ட³காரண்ய நிலயாய
दण्डप्रसादकायத³ண்ட³ப்ரஸாத³காய
दण्डनाथप्रपूजिताय नमः – २८२०த³ண்ட³ நாத²ப்ரபூஜிதாய நம​: – 2820
दाडिमीपुष्पाभाय नमःதா³டி³மீ புஷ்பாபா⁴ய நம​:
दाडिमीपुष्पभूषितायதா³டி³மீ புஷ்ப பூ⁴ஷிதாய
दाडिमीबीजरदनायதா³டி³மீ பீ³ஜரத³னாய
दाडिमीकुसुमप्रियायதா³டி³மீ குஸுமப்ரியாய
दृढायத்³ருʼடா⁴ய
दृढप्रज्ञायத்³ருʼட⁴ப்ரஜ்ஞாய
दृढायुधायத்³ருʼடா⁴யுதா⁴ய
दृढधन्विनेத்³ருʼட⁴ த⁴ன்வினே
दृढवैद्यरतायத்³ருʼட⁴ வைத்³ய ரதாய
दृढचारिणेத்³ருʼட⁴சாரிணே
द्रोणपुष्पप्रियायத்³ரோணபுஷ்பப்ரியாய
द्रोणायத்³ரோணாய
द्रोणपुष्पार्चनप्रियायத்³ரோணபுஷ்பார்சனப்ரியாய
दात्रेதா³த்ரே
दान्तायதா³ந்தாய
द्वात्रिम्शत्तत्वरूपायத்³வா த்ரிம்ஶத் தத்வரூபாய
दुत्तूरकुसुमप्रियायது³த்தூரகுஸுமப்ரியாய
द्युतिमतेத்³யுதிமதே
द्युतिधरायத்³யுதித⁴ராய
दूताय नमः – २८४०தூ³தாய நம​: – 2840

 
Post a Comment