Pages

Thursday, March 13, 2014

ஶிவம் 2521_2560





तन्त्रसाक्षिणे नमःதந்த்ரஸாக்ஷிணே நம​:
तान्त्रिकायதாந்த்ரிகாய
तान्त्रिकोत्तमायதாந்த்ரிகோத்தமாய
तान्त्रिकभूषणायதாந்த்ரிக பூ⁴ஷணாய
त्रात्रेத்ராத்ரே
त्रितत्वधृतेத்ரிதத்வத்⁴ருʼதே
तिन्त्रिणीषायதிந்த்ரிணீஷாய
तिन्त्रिणीफलभाजनायதிந்த்ரிணீப²லபா⁴ஜனாய
तिन्त्रिणीफलभूषाढ्यायதிந்த்ரிணீப²லபூ⁴ஷாட்⁴யாய
तत्वस्थायதத்வஸ்தா²ய
तत्वज्ञायதத்வஜ்ஞாய
तत्वनिलयायதத்வ நிலயாய
तत्ववाच्यायதத்வவாச்யாய
तत्वमर्थस्वरूपकायதத்வமர்த²ஸ்வரூபகாய
तत्वासनायதத்வாஸனாய
तत्वमस्यादिवाक्यार्थायதத்வமஸ்யாதி³வாக்யார்தா²ய
तत्वज्ञानप्रबोधकायதத்வஜ்ஞானப்ரபோ³த⁴காய
तत्सवितुर्जपसंतुष्टमानसायதத்ஸவிதுர்ஜபஸந்துஷ்டமானஸாய
तत्पदार्थस्वरूपकायதத்பதா³ர்த²ஸ்வரூபகாய
त्रेतायजनप्रीतमानसाय नमः – २५४०த்ரேதா யஜன ப்ரீத மானஸாய நம​: – 2540
तैत्तिरीयकाय नमःதைத்திரீயகாய நம​:
तथ्यायதத்²யாய
तिथिप्रियायதிதி²ப்ரியாய
तदन्तर्वर्तिनेதத³ந்தர்வர்தினே
तद्रूपायதத்³ரூபாய
त्रिदशायத்ரித³ஶாய
त्रिदेवायத்ரிதே³வாய
त्रिदशाधिपायத்ரித³ஶாதி⁴பாய
त्रिदशालयैरभिवन्दितायத்ரித³ஶாலயைரபி⁴வந்தி³தாய
त्रिदोषायத்ரிதோ³ஷாய
तुदतेதுத³தே
त्रिधाम्नेத்ரிதா⁴ம்னே
तनवेதனவே
तन्मात्रलिङ्गिनेதன்மாத்ரலிங்கி³னே
तनूनपातेதனூனபாதே
तनूदरायதனூத³ராய
तनातनायதனாதனாய
त्रिनेत्रायத்ரி நேத்ராய
त्रिनयनायத்ரி நயனாய
त्रिनाम्ने नमः – २५६०த்ரி நாம்னே நம​: – 2560

 
Post a Comment