Pages

Tuesday, April 1, 2014

ஶிவம் - 3041_3080



देवमान्याय नमःதே³வமான்யாய நம​:
देवतानवकपञ्चब्रह्मात्मनेதே³வ தானவக பஞ்ச ப்³ரஹ்மாத்மனே
देवताप्रियायதே³வதா ப்ரியாய
देवसुरगुरस्तव्यायதே³வஸுர கு³ரஸ்தவ்யாய
देवदेवेशायதே³வ தே³வேஶாய
देवभस्मागणप्रियायதே³வ ப⁴ஸ்மாக³ண ப்ரியாய
देवशिखामणयेதே³வ ஶிகா²மணயே
देवशिखात्मकायதே³வ ஶிகா²த்மகாய
देवसिन्धुतरङ्गशीकरसिक्त शीतजटाधरायதே³வ ஸிந்து⁴ தரங்க³ ஶீகர ஸிக்த ஶீத ஜடா த⁴ராய
देवाधिदेवेशायதே³வாதி⁴ தே³வேஶாய
देवराजारिमर्दनायதே³வ ராஜாரிமர்த³னாய
देवानुगतलिङ्गिनेதே³வானுக³த லிங்கி³னே
देवार्चितमूर्तयेதே³வார்சிதமூர்தயே
देव्याःकार्यार्थदायिनेதே³வ்யா​:கார்யார்த²தா³யினே
देवतात्मनेதே³வதாத்மனே
देवर्षयेதே³வர்ஷயே
देवासुरगणाश्रयायதே³வாஸுர க³ணாஶ்ரயாய
देवासुरपरायणायதே³வாஸுர பராயணாய
दैत्यगुरवेதை³த்ய கு³ரவே
दैवताय नमः – ३०६०தை³வதாய நம​: – 3060
दैवतलिङ्गनेதை³வதலிங்க³னே
दैवतनाथायதை³வத நாதா²ய
दशबाहवेத³ஶ பா³ஹவே
दशहस्तायத³ஶ ஹஸ்தாய
दशकरायத³ஶகராய
दशदिक्पालपूजितायத³ஶ தி³க்பால பூஜிதாய
दिशावस्त्रायதி³ஶாவஸ்த்ராய
दिशावासायதி³ஶாவாஸாய
दिशांपतयेதி³ஶாம்பதயே
दृश्यादृश्यायத்³ருʼஶ்யாத்³ருʼஶ்யாய
देशानां ब्रह्मावर्तायதே³ஶானாம்ʼ ப்³ரஹ்மாவர்தாய
देशकालपरिज्ञात्रेதே³ஶ கால பரிஜ்ஞாத்ரே
देशोपद्रवनाशकायதே³ஶோபத்³ரவ நாஶகாய
दंष्ट्रिणेத³ம்ʼஷ்ட்ரிணே
दंष्ट्रात्मनेத³ம்ʼஷ்ட்ராத்மனே
दंष्ट्राभ्रुकुटीधरश्यामप्रौढ दक्षिण वदनायத³ம்ʼஷ்ட்ராப்⁴ருகுடீத⁴ர ஶ்யாம ப்ரௌட⁴ த³க்ஷிண வத³னாய
दुष्कृतिघ्नेது³ஷ்க்ருʼதிக்⁴னே
दुष्प्रेष्यायது³ஷ்ப்ரேஷ்யாய
दुष्प्रधर्षनायது³ஷ்ப்ரத⁴ர்ஷனாய
दुष्टानां विलयाय नमः – ३०८०து³ஷ்டானாம்ʼ விலயாய நம​: – 3080

 
Post a Comment