Pages

Thursday, April 3, 2014

ஶிவம் 3121_3160



दक्षयज्ञप्रभञ्चकाय नमःத³க்ஷ யஜ்ஞ ப்ரப⁴ஞ்சகாய நம​:
दक्षाध्वरविनाशकायத³க்ஷாத்⁴ விநாஶகாய
दक्षाराध्यायத³க்ஷாராத்⁴யாய
दक्षयज्ञविनाशकायத³க்ஷ யஜ்ஞ விநாஶகாய
दक्षिणायத³க்ஷிணாய
दक्षादक्षसमर्चितायத³க்ஷாத³க்ஷ ஸமர்சிதாய
दक्षिणावभृथायத³க்ஷிணாவப்⁴ருʼதா²ய
दक्षिणामूर्तयेத³க்ஷிணாமூர்தயே
दक्षिणाकरायத³க்ஷிணாகராய
दक्षिणेத³க்ஷிணே
दक्षिणाराध्यायத³க்ஷிணாராத்⁴யாய
दक्षिणप्रेमसंतुष्टायத³க்ஷிண ப்ரேம ஸந்துஷ்டாய
दक्षिणावरदायத³க்ஷிணா வரதா³ய
दक्षिणामूर्तिरूपध्रुतेத³க்ஷிணாமூர்தி ரூப த்⁴ருதே
दाक्षिण्यशीलायதா³க்ஷிண்யஶீலாய
दाक्षायणीसमाराध्यायதா³க்ஷாயணீ ஸமாராத்⁴யாய
दीक्षाशालिनेதீ³க்ஷாஶாலினே
दीक्षारयेதீ³க்ஷாரயே
दीक्षितायதீ³க்ஷிதாய
दीक्षिताभीष्टदाय नमः – ३१४०தீ³க்ஷிதாபீ⁴ஷ்டதா³ய நம​: – 3140
धकारस्य दन्वन्तरि देवता | विषज्वर विनाशने विनियोगः|த⁴காரஸ்ய த³ன்வந்தரி தே³வதா | விஷ ஜ்வர வினாஶனே வினியோக³​:|
ध्वजिने नमःத்⁴வஜினே நம​:
ध्वजिनीपतयेத்⁴வஜினீபதயே
धृतिमतेத்⁴ருʼதிமதே
धात्रेதா⁴த்ரே
धात्रीशायதா⁴த்ரீஶாய
धातुमण्डितायதா⁴துமண்டி³தாய
धात्रीपतयेதா⁴த்ரீபதயே
धितिकृतेதி⁴திக்ருʼதே
धन्देशायத⁴ந்தே³ஶாய
धनदायத⁴னதா³ய
धनाधिपायத⁴னாதி⁴பாய
धनदाध्यक्षायத⁴னதா³த்⁴யக்ஷாய
धनकृतेத⁴னக்ருʼதே
धनधान्यसमृद्धितायத⁴னதா⁴ன்யஸம்ருʼத்³தி⁴தாய
धनुर्वेदायத⁴னுர்வேதா³ய
धन्विनेத⁴ன்வினே
धन्यायத⁴ன்யாய
धनुषेத⁴னுஷே
धनाध्यक्षायத⁴னாத்⁴யக்ஷாய
धनञ्जयाय नमःத⁴னஞ்ஜயாய நம​:

 
Post a Comment