Pages

Monday, April 28, 2014

ஶிவம் 3801_3840



प्राणायामरतानां प्रत्यक्षाय नमःப்ராணாயாம ரதானாம்ʼ ப்ரத்யக்ஷாய நம​:
प्राणायப்ராணாய
प्राणपालकायப்ராணபாலகாய
प्राणापानायப்ராணாபானாய
प्राणदायப்ராணதா³ய
प्राणधारणायப்ராணதா⁴ரணாய
प्राणिनां प्रभवेப்ராணினாம்ʼ ப்ரப⁴வே
प्राणमयायப்ராணமயாய
प्राणानां सुहृदेப்ராணானாம்ʼ ஸுஹ்ருʼதே³
प्राणेश्वरायப்ராணேஶ்வராய
प्राणापानप्रवर्तिनेப்ராணாபானப்ரவர்தினே
पुण्यायபுண்யாய
पुण्यचंचुरिणेபுண்யசஞ்சுரிணே
पुण्यशालिबन्धवेபுண்யஶாலி ப³ந்த⁴வே
पुण्यफलितायபுண்யப²லிதாய
पुण्यश्रवणकीर्तनायபுண்ய ஶ்ரவண கீர்தனாய
पुण्यकीर्तयेபுண்யகீர்தயே
पुण्यामूर्तयेபுண்யாமூர்தயே
पुण्यशरणायபுண்யஶரணாய
पुण्यादात्रे नमः – ३८२०புண்யாதா³த்ரே நம​: – 3820
पुण्यापुण्यफलप्रदाय नमःபுண்யாபுண்யப²லப்ரதா³ய நம​:
पुण्योदयायபுண்யோத³யாய
पतिनामकलयादिव्या पारत्रयलक्षित शक्तिमदात्मनेபதினாமகலயா தி³வ்யா பார த்ரய லக்ஷித ஶக்திமதா³த்மனே
पताकाध्वजिनीपतयेபதாகா த்⁴வஜினீபதயே
पततां गरुडायபததாம்ʼ க³ருடா³ய
पतञ्जलिव्याग्रपादसन्नुतायபதஞ்ஜலிவ்யாக்³ரபாத³ஸன்னுதாய
पतङ्गपङ्कजासुहृत्कृपीटयोनिचक्षुषेபதங்க³ பங்கஜா ஸுஹ்ருʼத் க்ருʼபீட யோனி சக்ஷுஷே
पत्तीनां पतयेபத்தீனாம்ʼ பதயே
पत्तीषायபத்தீஷாய
प्रतिसद्यायப்ரதிஸத்³யாய
प्रतिश्रवायப்ரதிஶ்ரவாய
प्रतिचात्मनेப்ரதிசாத்மனே
प्रणतार्तिभञ्जनायப்ரணதார்தி ப⁴ஞ்ஜனாய
प्रतापायப்ரதாபாய
प्रत्यगात्मकायப்ரத்யகா³த்மகாய
प्रतिसर्यायப்ரதிஸர்யாய
प्रतिष्ठितायப்ரதிஷ்டி²தாய
प्रतापनायப்ரதாபனாய
प्रतापवतेப்ரதாபவதே
प्रतिष्ठाकलात्मकनाभ्यादिकाय नमः- ३८४०ப்ரதிஷ்டா² கலாத்மகனாப்⁴யாதி³காய நம​:- 3840

 
Post a Comment